भारत में बनेगा मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम, Android-iOS को मिलेगी बड़ी हिट

देश में जल्द ही अपना खुद का मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम होगा । सरकार Google के Android और Apple के iOS को टक्कर देने के लिए एक स्वदेशी मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम लॉन्च करने की तैयारी कर रही है। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि सरकार इसके लिए नई नीतियां बना रही है, जिससे देश में ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने में मदद मिलेगी।

मोबाइल फोन की दुनिया में ऑपरेटिंग सिस्टम कमाल का काम कर रहे हैं। इसमें Apple iOS और Google Android शामिल हैं । मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि ये कंपनियां हार्डवेयर इकोसिस्टम को प्रभावित कर रही हैं। इसलिए सरकार Google और Apple के ऑपरेटिंग सिस्टम को टक्कर देने के लिए एक वैकल्पिक प्लेटफॉर्म पर काम कर रही है।

इस मौके पर बोलते हुए चंद्रशेखर ने कहा कि फिलहाल एप्पल और गूगल के अलावा कोई तीसरा ऑपरेटिंग सिस्टम नहीं है। ऐसे में केंद्र सरकार के पास हैंडसेट ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने की कोशिश करने का खास मौका है।

इसको लेकर कई लोगों से बातचीत चल रही है। इसके लिए हम नई रणनीति पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार स्टार्टअप्स और शैक्षिक पारिस्थितिकी तंत्र के भीतर स्वदेशी ऑपरेटिंग सिस्टम विकसित करने की क्षमता तलाश रही है।

इस समय देश का इलेक्ट्रॉनिक्स निर्यात करीब 15 15 अरब डॉलर का है। एक तरफ देश अपना ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने की कोशिश कर रहा है। दूसरी ओर, Jio Estonia OÜ ने 6G नेटवर्क का पता लगाने के लिए फिनलैंड में यूनिवर्सिटी ऑफ औलू के साथ साझेदारी की है । इन दोनों तत्वों की साझेदारी 6G नेटवर्क के लिए विश्वव्यापी अवसरों की खोज के लिए एक ठोस नींव रखेगी। अब विश्वविद्यालय के साथ हाथ मिलाने से जियो की 5जी क्षमताओं का और विस्तार होगा। इसकी मदद से जियो प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अत्याधुनिक अनुसंधान और विकास के अलावा 6जी के इस्तेमाल की संभावनाओं का पता लगाने में सक्षम होगी।

Check Also

भारतीय शेयर बाजार: हेल्थकेयर शेयरों में तेजी, कंपनी का मुनाफा बढ़ा

हेल्थकेयर कंपनी एस्टर डीएम हेल्थकेयर द्वारा चौथी तिमाही के नतीजों की रिपोर्ट के बाद स्टॉक …