Home / हेल्थ &फिटनेस / भारत ने एंटी मलेरिया दवाई के निर्यात पर लगाई रोक, कोरोना इलाज के लिए किया जा रहा टेस्ट

भारत ने एंटी मलेरिया दवाई के निर्यात पर लगाई रोक, कोरोना इलाज के लिए किया जा रहा टेस्ट

कोरोना वायरस देश में तेजी के साथ फैल रहा है और इससे संक्रमित लोगों की संख्या 600 के पार कर गई है। इस बीच, भारत सरकार ने बुधवार को कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर घरेलू बाजार में दवा की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए मलेरिया रोधी दवा हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया।

भारतीय चिकित्सा शोध परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण के संदिग्ध या पुष्ट मामलों में देखभाल करने वाले स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के इलाज के लिए हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन के इस्तेमाल की सिफारिश की थी।

मलेरिया दवाई की निर्यात पर रोक का आदेश 

आईसीएमआर द्वारा कोविड-19 पर गठित राष्ट्रीय कार्यबल द्वारा की गई इलाज की सिफारिशों को भारतीय दवा महानियंत्रक (डीजीसीआई) ने आपातकालीन स्थितियों में प्रतिबंधित उपयोग के लिए मंजूरी दी है।

वाणिज्य मंत्रालय के तहत आने वाले विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) की बुधवार को जारी एक अधिसूचना में कहा गया, “हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन और हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन बनाने वाले घटकों के निर्यात को तत्काल प्रभाव से रोक दिया गया है।” अधिसूचना में हालांकि, यह कहा गया है कि सरकार विदेश मंत्रालय की सिफारिश पर मानवीय आधार पर दवा के निर्यात की अनुमति देगी।

कोरोना के लिए कोई स्वीकृत इलाज नहीं

फिलहाल, खतरनाक कोविड-19 के लिए ना कोई स्वीकृत इलाज है और ना ही इसे रोकने के लिए कोई वैक्सीन बनी है। यह खतरनाक वायरस जानलेवा है और दुनियाभार में हजारों लोगों की अब तक जान ले चुका है। शोधकर्ताओं की तरफ से पहले से चले आ रहे इलाजों का अध्ययन करने और प्रयोग पर काम किया जा रहा है लेकिन इस वक्त कोरोना के मरीजों को सिर्फ सपोर्टिव केयर के तौर पर सांस में मदद दी जाती है।

हाइड्रोक्लोरोक्वीन एक मलेरिया की दवाई है जिसे कोरोना के मरीजों के लिए इलाज में कारगर दवाई के तौप पर उसके टेस्ट किया जा रहा है। इस हफ्ते की शुरुआत में अमेरिकन सोसाइटी ऑफ हेल्थ सिस्टम फार्मासिस्ट्स (एएसएचपी), जो दवाईयों के खत्म होने की लिस्ट रखता है, उसने बताया कि हाइड्रोक्लोरोक्वीन की शॉर्टेज हो गई है।

दुनियाभर में कोरोना से 4 लाख से ज्यादा संक्रमित
दुनियाभर में कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की संख्या 19,246 हो गई है। आधिकारिक सूत्रों से प्राप्त जानकारी के आधार पर एएफपी की गणना के अनुसार दिसम्बर में चीन में इस वायरस का पहला मामला सामने आने के बाद 181 देशों में 427,940 मामले दर्ज किए गए। इटली में इस वायरस से 6,820 लोगों की मौत हो चुकी है और इससे 69,176 लोग संक्रमित है और 8,326 लोग ठीक हो गए है। स्पेन में मरने वालों की संख्या चीन से अधिक हो गई है। स्पेन में इससे 3,434 लोगों की मौत हुई है और 47,610 लोग संक्रमित हुए है। चीन में कोरोना वायरस से 3,281 लोगों की मौत हुई है और इसके 81,218 मामले सामने आए हैं।

फ्रांस में 1100 और अमेरिका में 600 लोगों की मौत
फ्रांस में कोरोना वायरस से 1,100 लोगों की मौत हुई और 22,302 मामले सामने आए हैं। अमेरिका में इससे 600 लोगों की मौत हुई, जबकि इस वायरस के 55,225 मामले सामने आए हैं। मंगलवार (24 मार्च) तक कैमरून और नाइजर में कोरोना वायरस से पहली मौत हुई जबकि लीबिया, लाओस और डोमिनिका में इस वायरस का पहला मामला सामने आया है। बामाको से प्राप्त एएफपी की एक खबर के मुताबिक पश्चिमी अफ्रीकी देश माली ने बुधवार (24 मार्च) को कोरोना वायरस के प्रथम दो मामले सामने आने की घोषणा की।

Loading...

Check Also

अब नई किट से सिर्फ 5 मिनट में पता चलेगा कोरोना है या नहीं

कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनिया पेरशान है लेकिन इसी बीच एक खुशखबरी आई है। ...