भारत-नेपाल के रिश्तों की नई शुरुआत:तीन दिन के दौरे पर भारत आए नेपाल के विदेश मंत्री; सीमा विवाद समेत कई मुद्दों पर होगी बातचीत

नेपाल में राजनीतिक उथल-पुथल और भारत से सीमा विवाद के बीच नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली का आत से तीन दिन का भारत दौरा शुरू हो गया है। गुरुवार की शाम ग्यावली नई दिल्ली पहुंचे। यहां वो नेपाल-भारत संयुक्त आयोग की 6वीं बैठक में शामिल होंगे। इसके अलावा वह भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ कई मसलों पर बातचीत करेंगे। इसमें सीमा विवाद सबसे अहम माना जा रहा है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि हाल ही में नेपाल के नए नक्शे को लेकर दोनों देशों के बीच कड़वाहट काफी बढ़ गई थीं।

इन मुद्दों पर होगी बातचीत
नेपाल के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, संयुक्त आयोग की बैठक में व्यापार, पारगमन संधि, ऊर्जा, सीमा विवाद, कोविड-19 में सहयोग, इंफ्रास्ट्रक्चर, कनेक्टिविटी, निवेश, कृषि, पर्यटन, संस्कृति समेत अन्य आपसी रिश्तों पर चर्चा होगी।”

नेपाल की संसद भंग कर दी गई है
नेपाल के विदेश मंत्री का भारतीय दौरा ऐसे समय में हो रहा है जब नेपाल की संसद भंग कर दी गई है। अब यहां दो चरणों में 30 अप्रैल और 10 मई को चुनाव होने हैं। प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली इस समय विपक्ष के साथ खुद की पार्टी के नेताओं के निशाने पर भी हैं। संसद को भंग करने को लेकर सभी नाखुश हैं। ये लोग ओली के फैसले को असंवैधानिक बता रहे हैं। मामला कोर्ट तक पहुंच गया है।

मौजूदा राजनीतिक संकट में भारत का कोई रोल नहीं है। लेकिन, ओली जब से प्रधानमंत्री बने तब से वो अक्सर अपने ऊपर आए संकट से ध्यान हटाने के लिए भारत विरोधी राजनीति का सहारा लेते रहे हैं। ओली को जब पहली बार अल्पमत में आने पर इस्तीफा देना पड़ा तब भी उन्होंने भारत को पर आरोप लगाए थे।

दोनों देशों के बीच कैसे शुरू हुआ विवाद?
भारत ने अपना नया राजनीतिक नक्शा 2 नवम्बर 2019 को जारी किया था। इस पर नेपाल ने आपत्ति जताई थी और कालापानी, लिंपियाधुरा और लिपुलेख इलाके को अपना क्षेत्र बताया था। इस साल 18 मई को नेपाल ने इन तीनों इलाकों को शामिल करते हुए अपना नया नक्शा जारी कर दिया। इस नक्शे को अपने संसद के दोनों सदनों में पारित कराया। इसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया। मई-जून में नेपाल ने भारत से सटी सीमाओं पर सैनिकों की तादाद बढ़ा दी। बिहार में भारत-नेपाल सीमा पर नेपाली सैनिकों ने भारत के लोगों पर फायरिंग भी की थी।

Check Also

तुर्की ने ट्विटर व पिंटरेस्ट पर विज्ञापन प्रतिबंध लगाया

अंकारा : तुर्की ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के संबंध में देश में बनाए गए कानून का …