बेन स्टोक्स ने किया दावा, कप्तान बनने के बाद भी नहीं आएगा ये बदलाव

करीब चार महीने के ब्रेक के बाद 8 जुलाई को इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच शुरू होने वाली टेस्ट सीरीज से इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी होगी. तीन टेस्ट की सीरीज के पहले मुकाबले में इंग्लैंड के टीम अपने रेगुलर कप्तान जोए रूट के बिना ही मैदान पर उतरेगी. रूट की अनुपस्थिति में स्टार ऑलराउंडर बेन स्टोक्स पहली बार इंग्लिश टीम की कप्तानी का जिम्मा संभालते हुए नज़र आएंगे. यह पहला मौका होगा जब स्टोक्स किसी इंटरनेशनल मैच में टीम की अगुवाई करेंगे.

 

स्टोक्स ने अपने इरादे साफ करते हुए बताया है कि कप्तान बनने के बाद भी उनमें कोई बदलाव नहीं आएगा. स्टोक्स का कहना है कि वह मैदान पर पहले की तरह आक्रमक रूख में ही नज़र आएंगे. बता दें कि रूट की पत्नी जल्द ही बच्चे को जन्म देने वाली हैं, इसलिए वह पहले मुकाबले में खेलने के लिए उपलब्ध नहीं होंगे.

 

 

स्टोक्स ने कहा, ”अगर पिच फ्लैट होगी तो मैं आर्चर, ब्रॉड और एंडरसन के हाथ में गेंद थमा दूंगा. अगर मैं सही से गेंदबाजी नहीं कर पा रहा होता तो मेरे लिए गेंदबाजी ना करना ही बेहतर है. अगर मैं अच्छी गेंदबाजी कर रहा होता हूं तो मैं फिर लगातार यही करना चाहता हूं.”

 

63 टेस्ट खेल चुके हैं स्टोक्स

 

स्टोक्स का कहना है कि 63 टेस्ट खेलने का बाद वह पूरी तरह से इस जिम्मेदारी को संभालने के लिए तैयार हैं. स्टोक्स ने कुक की कप्तानी में 2013 में डेब्यू किया था और दिग्गज ओपनर के रिटायर होने के बाद से वह रूट की अंडर में खेल रहे हैं.

 

बता दें कि 13 मार्च को आखिरी बार इंटरनेशनल क्रिकेट मैच खेला गया था. इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच मैदान पर बिना दर्शकों के ही क्रिकेट की वापसी होने जा रही है. इस सीरीज के लिए वेस्टइंडीज के खिलाड़ी एक महीना पहले ही इंग्लैंड पहुंच गए थे. इतना ही नहीं सीरीज के दौरान कोरोना वायरस की वजह से क्रिकेट के नियमों में भी बदलाव देखने को मिलेगा.

Check Also

लॉकडाउन में पैसों की तंगी से जूझ रही है ये भारतीय चैंपियन, अपनी फेवरेट BMW कार बेचने को हुई मजबूर

लॉकडाउन (Lockdown) और कोरोना महामारी (Corona) ने न सिर्फ आम लोगों को बल्कि खिलाड़ियों को …