बीजेपी का आरोप- झारखंड सरकार के कोरोना से लड़ने के इंतजाम सिर्फ ट्विटर पर, जमीनी हकीकत अलग

रांची: झारखंड बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा कि कोरोना काल में राज्य सरकार हर मोर्चे पर पूरे तरीके से विफल रही है. साथ ही कोरोना से निपटने के लिए ट्विटर और आभासी दुनिया पर ही सारे इंतजाम किए हैं.

 

बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा, ‘‘जमीनी हकीकत इससे बिल्कुल अलग है. सरकार ने हिंद पीढ़ी की नाकेबंदी की थी और कहा था की परिंदा भी वहां पर नहीं मार सकता. लगता है ये नाकेबंदी सिर्फ ट्विटर पर थी क्योंकि असलियत में हिंद पीढ़ी से निकलकर लोग लगातार प्रदेश के दूसरे जिलों में पहुंचते रहे.’’

 

जमीनी हकीकत बिल्कुल अलग- प्रतुल शाहदेव 

 

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘आभासी दुनिया पर सरकार ने क्वॉरन्टीन केंद्र , आश्रय गृह , ट्रांजिट होम में सारी व्यवस्था कर दी जबकि हर दिन इन केंद्रों पर बदइंतजामी की खबरें आ रही हैं और लोग इन केंद्रों से भाग रहे हैं. दूसरे राज्यों से आने वाले श्रमिकों के लिए भी राज्य सरकार ने ट्विटर पर रेलवे स्टेशन से लेकर हाइवे तक व्यवस्था कर दी थी लेकिन जमीनी हकीकत इससे उलट है. श्रमिकों को स्टेशन पर घंटों बसों का इंतजार करना पड़ा है. बसों में भी सामाजिक दूरी के नियम का उल्लंघन किया गया. भोजन पानी के लिए भी त्राहिमाम की स्थिति है.’’

 

उन्होंने कहा कि हाईवे में भी चलने वाले श्रमिकों के लिए सरकार भोजन की मुकम्मल व्यवस्था नहीं कर पाई. ट्विटर पर सरकार ने राज्य में पैदल चलने वाले सारे श्रमिकों के लिए वाहनों की व्यवस्था कर दी जबकि असलियत में आज भी बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर पैदल चल रहे हैं और बीजेपी इन्हें राहत पहुंचाने में जुटी है.

Check Also

इतनी जोर से नाले से टकराया ट्रक कि सरिये केबिन तोड़कर ड्राइवर-क्लीनर को अपने साथ उड़ा ले गए

रामगढ़, झारखंड. गाड़ी चलाते वक्त जाने-अनजाने होने वालीं गलतियां जिंदगी पर भारी पड़ती हैं। यह हादसा …