बाबोस, म्लादेनोविक की जोड़ी ने जीता फ्रेंच ओपन महिला युगल का खिताब

टिमिया बाबोस और क्रिस्टीना म्लादेनोविच की जोड़ी रविवार को यहां फ्रेंच ओपन महिला युगल खिताब का बचाव करने में सफल रही। हंगरी और फ्रांस की दूसरी वरीयता प्राप्त जोड़ी ने चिली की एलेक्सा गुआराची और अमेरिका की देसिरे क्रैवस्जीक की 14वीं वरीयता प्राप्त जोड़ी को 6-4, 7-5 से मात दी। जोड़ी के तौर पर बाबोस और म्लादेनोविच का यह चौथा ग्रैंड स्लैम खिताब है। यह जोड़ी फ्रेंच ओपन खिताब को दो बार जीतने के अलावा 2018, 2020 में ऑस्ट्रेलियाई ओपन की विजेता रही हैं।

इससे पहले शनिवार को पोलैंड की 19 साल की खिलाड़ी इगा स्वियातेक ने फ्रेंच ओपन के फाइनल में ऑस्ट्रेलियाई ओपन चैम्पियन सोफिया केनिन को हराकर इतिहास रच दिया। अपना पहला ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के साथ ही वे ऐसा करने वाली पोलैंड की पहली महिला खिलाड़ी भी बन गईं हैं। यह टूर स्तर का उनका पहला खिताब है। फाइनल में इगा स्वियातेक ने सोफिया केनिन को लगातार दो सेटो में 6-4, 6-1 से हराया और फ्रेंच ओपन महिला एकल का खिताब अपने माम कर लिया।

 

स्वियाटेक ने चौथी सीड केनिन को फाइनल में मात्र एक घंटे 24 मिनट में लगातार सेटों में हरा दिया। 21 वर्षीय केनिन ने इस साल के शुरू में ऑस्ट्रेलियन ओपन का खिताब जीता था, लेकिन 19 वर्षीय और विश्व की 53वें नंबर की खिलाड़ी स्वियाटेक के सामने उन्होंने जैसे समर्पण कर दिया। स्वियाटेक इस तरह ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने वाली पोलैंड की पहली खिलाड़ी बन गई।

स्वियाटेक 1997 में इवा माजोली के बाद इस खिताब को जीतने वाली पहली ‘टीन (19 साल तक की) खिलाड़ी है। स्वियातेक ने अपने खिताबी अभियान के दौरान 2018 की चैम्नियन सिमोना हालेप और 2019 की उपविजेता मार्केटा वेंद्रोसोवा को एकतरफा मुकाबले में शिकस्त दी।

Check Also

पाक बनाम जिम्बाब्वे : पहले वनडे के लिए पाकिस्तानी टीम का ऐलान

रावलपिंडी : पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने जिम्बाब्वे के खिलाफ होने वाले पहले वनडे के …