बलिया कांड : जानें कौन है हत्या का आरोपी धीरेंद्र सिंह, कितना करीबी रिश्ता है बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह से

यूपी का बलिया जिला एक बार फिर चर्चा में है। इस बार यहां एक पुलिस और आला अधिकारियों के सामने हत्या हुई है। इसके बाद विपक्ष सरकार पर हमलवार हो गया है। आरोप है कि आरोपी भाजपा से जुड़ा है और बैरिया से बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह का काफी करीबी है। कई मौके पर विधायक और आरोपी को एक साथ देखा गया है।

हालांकि बलिया के बीजेपी जिलाध्यक्ष जयप्रकाश साहू ने बताया कि आरोप धीरेंद्र सिंह उर्फ डब्बू हमारे किसी संगठन का पदाधिकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि धीरेंद्र भारतीय जनता पार्टी के किसी भी दायित्व के पद पर नही हैं। वह न मंडल में किसी दायित्व पर हैं और नही जिले में किसी पद पर हैं। इससे पहले घटना के बाद न्यूज एजेंसी भाषा ने विधायक सुरेंद्र सिंह के हवाले से बताया था कि धीरेन्द्र भाजपा सैनिक प्रकोष्ठ का जिलाध्यक्ष है। बताया जाता है कि आरोपी धीरेंद्र सिंह सेना का रिटायर्ड जवान है। धीरेंद्र की गिनती बैरिया के विधायक सुरेंद्र सिंह के करीबियों में होती है।

अखिलेश यादव ने किया तंज

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा कि सत्ताधारी बीजेपी के एक नेता ने एसडीएम और सीओ के सामने खुलेआम एक युवक की हत्या कर दी। उसके फरार हो जाने से कानून व्यवस्था का सच सामने आ गया है। अखिलेश ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि अब देखें क्या एनकाउंटर वाली सरकार अपने लोगों की गाड़ी भी पलटाती है या नहीं।

जानें क्या बोले विधायक :

बैरिया के विधायक सुरेंद्र सिंह ने घटना को ‘कैजुअल्टी’ करार देते हुए कहा कि ऐसी वारदात कहीं भी हो सकती है। उन्होंने बताया कि घटना में दोनों तरफ से पथराव हुआ था और मामले में कानून अपना काम करेगा।

सीएम योगी ने लिया एक्शन :

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस वारदात को गंभीरता से लेते हुए सम्बन्धित उपजिलाधिकारी सुरेश चंद्र पाल, पुलिस क्षेत्राधिकारी चंद्रकेश सिंह और मौके पर मौजूद सभी पुलिसकर्मियों को निलम्बित करने और घटना के दोषियों के खिलाफ ‘कठोरतम’ कार्रवाई के आदेश दिए थे। सीएम योगी ने कहा कि इस मामले में अधिकारियों की भूमिका की भी जांच होगी और अगर वे जिम्मेदार पाए गये तो उनके खिलाफ भी आपराधिक कार्रवाई की जाएगी। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस मामले में जय प्रकाश के भाई चंद्रमा की शिकायत पर चार नामजद तथा 15 से 20 अज्ञात व्यक्तियों के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की सुसंगत धारा में मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि मौके पर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है और मौके पर शांति है।

विपक्ष ने इस मुद्दे पर सरकार पर हमला बोला:
मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किये गये ट्वीट में कहा सत्ताधीश खुलेआम कानून व्यवस्था को चुनौती दे रहे हैं। बलिया में कानून व्यवस्था को ठेंगा दिखाने वाली खौफनाक वारदात सामने आई है जहां उपजिलाधिकारी और पुलिस क्षेत्राधिकारी के सामने भाजपा नेता ने युवक जय प्रकाश पाल की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस के सामने से गोली मारकर भाजपा नेता फरार भी हो गया।

कांग्रेस के प्रदेश मीडिया संयोजक ललन कुमार ने इस घटना पर सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा, भाजपा सरकार खून से लथपथ है। बलिया की घटना शर्मसार करने वाली है। अधिकारियों के सामने सरेआम हत्या की और वह भाग भी गया। मुख्यमंत्री कार्रवाई का दिखावा करते हैं। वह अपने मंत्रियों और पार्टी कार्यकर्ताओं को कब सलाखों के पीछे भेजेंगे। उन्होंने कहा, उत्तर प्रदेश के हालात देखकर ऐसा लगता है कि यहां महाजंगलराज चल रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ छोटे अधिकारियों और कर्मचारियों पर तो कार्रवाई करते हैं, मगर वह वारदातों में लिप्त भाजपा नेताओं और वरिष्ठ अफसरों पर कब कार्रवाई करेंगे। अगर मुख्यमंत्री में थोड़ी सी भी शर्म बची है तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।

Check Also

मायावती के पास राजनीतिक ताकत बढ़ाने के लिए सिर्फ भाजपा के साथ जाने का बचा विकल्प? 27 साल में कर चुकी हैं 5 बार गठबंधन

यह फोटो लोकसभा चुनाव के दौरान मैनपुरी की है। बसपा प्रमुख मायावती, सपा अध्यक्ष अखिलेश …