बरामदे पर भविष्य:बोरियों में बांध बाहर रख दिया माइग्रेशन जिसकी मर्जी निकालकर ले जा रहा

 

विवि कार्यालय के बरामदे पर इस तरह पड़े हैं माइग्रेशन व अन्य सर्टिफिकेट्स। - Dainik Bhaskar

विवि कार्यालय के बरामदे पर इस तरह पड़े हैं माइग्रेशन व अन्य सर्टिफिकेट्स।

  • स्टोर रूम में इन्हें रखने के लिए नहीं मिल रही जगह
  • इस लापरवाही के कारण विवि में चक्कर काटते रहते स्टूडेंट्स

बिहार विवि के स्नातक के एक लाख छात्र-छात्राओं का भविष्य खुली बोरियों में धूल फांक रहा है, लेकिन इसकी चिंता न तो विवि कर्मचारियों को है और न ही पदाधिकारियों को ही। स्नातक 2019-22 सत्र के छात्र-छात्राओं का नामांकन के बाद रजिस्ट्रेशन के लिए फॉर्म भरवाया गया।

छात्रों को भरे गए फॉर्म की रसीद तो दे दी गई, लेकिन उनके दस्तावेज विवि में सुरक्षित रखने के बजाए उसे बोरियों में ठूंस यूं ही कार्यालय के बरामदे पर रख दिए गए। पिछले कई दिनों से ये बोरियां कबाड़ की तरह पड़ी हैं। हैरानी की बात तो यह है कि इसमें स्नातक के छात्र-छात्राओं का इंटर का माइग्रेशन भी है। खुले में होने के कारण कई छात्र इसे निकाल भी ले जा रहे हैं। शनिवार को भी एक छात्र इन बोरियों में अपना माइग्रेशन ढूंढ रहे थे।

फिलहाल ऐसे कई छात्र हैं, जिनका रजिस्ट्रेशन फॉर्म जमा होने के बाद भी निबंधन नहीं हुआ है। ऐसे छात्रों के जमा ये दस्तावेज खो जाएं तो आगे उनका रजिस्ट्रेशन मुश्किल हो जाएगा। बावजूद इसके विवि इससे बेपरवाह है। बताया जा रहा है, स्टोर रूम में जगह के अभाव में इसे बाहर ही छाेड़ दिया गया है।

विवि से माइग्रेशन निकाल लेने पर एक सत्र में दो विश्वविद्यालयों में लिया जा सकता है दाखिला
जिस तरह से बोरियों में इंटर का माइग्रेशन फेंका है। उन्हें निकाल लेने पर कोई छात्र एक साथ एक समय में दो-दो विश्वविद्यालयों में दाखिला लेकर पढ़ाई कर सकता है। सीनेटर डॉ. ममता कुमारी ने कहा कि नियमानुसार, यह गलत है। जिस तरह से यह रखा हुआ है यह छात्र-छात्राओं के भविष्य से खिलवाड़ है।

रजिस्ट्रेशन बाद कम से कम 3 साल स्टोर में रखना है सुरक्षित
रजिस्ट्रेशन फॉर्म के आधार पर छात्रों का डाटा रजिस्ट्रेशन रजिस्टर में चढ़ाना होता है। इसके बाद भी कम से कम 3 साल तक इसे सुरक्षित स्टोर में रखना है, ताकि किसी छात्र के रजिस्ट्रेशन में समस्या आए तो उसके भरे हुए फॉर्म के आधार पर समाधान हो सके। हालांकि, रजिस्ट्रेशन के दौरान ही इसे बाहर फेंक दिया गया।

2019 में एडमिशन कराए स्नातक छात्रों के हैं इसमें रिकॉर्ड
इन बाेरों में 2019-22 सत्र के लिए स्नातक में नामांकन कराए छात्र-छात्राओं के भी रिकाॅर्ड हैं। इन छात्रों का कुछ दिन पहले तक रजिस्ट्रेशन हो रहा था। अभी एक भी पार्ट की परीक्षा नहीं हुई है।

 

Check Also

सीनियर राष्ट्रीय महिला क्रिकेट का शेड्यूल जारी:बिहार का पहला मुकाबला पुडुचेरी से 11 मार्च को, 6 मैच खेलेगी बिहार टीम

  प्रतीकात्मक तस्वीर। BCCI ने सीनियर राष्ट्रीय महिला क्रिकेट का शेड्यूल जारी कर दिया है। …