बंगाल चुनाव से पहले बड़ा एक्शन:ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी के घर पहुंची CBI, कोयला घोटाले मामले में उनकी पत्नी रूजीरा को नोटिस दिया

कोयला घोटाले मामले में TMC के नेताओं पर आरोप लगे हैं। इसमें मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और TMC नेता अभिषेक बनर्जी का नाम भी शामिल है। - Dainik Bhaskar

कोयला घोटाले मामले में TMC के नेताओं पर आरोप लगे हैं। इसमें मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और TMC नेता अभिषेक बनर्जी का नाम भी शामिल है।

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले CBI ने बड़ा एक्शन लिया है। कोयला घोटाले की जांच के सिलसिले में CBI टीम रविवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के घर पहुंची। टीम ने अभिषेक की पत्नी रूजीरा बनर्जी को जांच में शामिल होने के लिए समन दिया। CBI पहले भी रूजीरा को नोटिस भेज चुकी है।

अभिषेक बोले- हम झुकने वाले नहीं
अभिषेक ने सोशल मीडिया के जरिए कहा कि आज दोपहर 2 बजे CBI ने मेरी पत्नी के नाम का नोटिस दिया। हमें कानून पर पूरा भरोसा है। केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि अगर उन्हें लगता है कि इस तरह से वे हमें डराने में कामयाब हो जाएंगे, तो यह उनकी बहुत बड़ी भूल है। हम उनमें से नहीं, जिन्हें झुकाया जा सके।

नोटिस की टाइमिंग पर उठे सवाल
बहरहाल, नोटिस की टाइमिंग पर भी सवाल उठ रहे हैं। TMC ने विधानसभा चुनाव से ठीक पहले इस तरह का नोटिस दिए जाने को राजनीति बताया है। इससे पहले भी ममता सरकार कई बार केंद्र सरकार पर सरकारी एजेंसियों का दुरुपयोग करने का आरोप लगा चुकी है।

शुक्रवार को 13 ठिकानों पर छापेमारी की थी
इसी मामले में CBI ने शुक्रवार को राज्य के पुरुलिया, बांकुरा, बर्दवान और कोलकाता में 13 जगहों पर छापेमारी की थी। ये छापेमारी युवा तृणमूल कांग्रेस के नेता विनय मिश्रा, व्यवसायी अमित सिंह और नीरज सिंह के ठिकानों पर हुई थी। छापे के दौरान कोई भी घर पर मौजूद नहीं था।

इसके पहले 11 जनवरी को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने हुगली, कोलकाता, उत्तर 24 परगना, आसनसोल, दुर्गापुर, बर्धमान में छापेमारी की थी।

TMC नेताओं पर ही लगे हैं आरोप
कोयला घोटाले में TMC के नेताओं पर आरोप लगे हैं। इसमें अभिषेक का नाम भी शामिल है। आरोप है कि बंगाल में अवैध रूप से कई हजार करोड़ के कोयले का खनन किया गया और एक रैकेट के जरिए इसे ब्लैक मार्केट में बेचा गया। इस मामले में दिसंबर के शुरुआती हफ्तों में भी CBI ने कोलकाता के CA गणेश बगारिया के दफ्तर में छापा मारा था।

सितंबर में जांच शुरू हुई; कोर्ट ने CBI को मंजूरी दी
पिछले साल सितंबर में कोयला घोटाले की जांच शुरू हुई। तब से BJP इसके लिए TMC पर लगातार आरोप लगा रही है। BJP नेताओं का कहना है कि कोयला घोटाले से मिली ब्लैक मनी को TMC के नेताओं ने शेल कंपनियों के जरिए व्हाइट मनी में बदला। इसमें सबसे ज्यादा फायदा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी को हुआ है।

अभिषेक बनर्जी TMC की युवा विंग के अध्यक्ष हैं। उन्होंने अपनी पार्टी में विनय मिश्रा समेत 15 युवाओं को महासचिव बनाया था। विनय मिश्रा शुरू से ही कोयला घोटाले के आरोपी हैं। TMC ने CBI जांच पर रोक लगाने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसे कोर्ट ने नामंजूर कर दिया था।

 

Check Also

नकल रोकने बोर्ड की सख्ती:दूसरे की जगह पेपर देते मिले तो दोनों 3 साल के लिए होंगे अयोग्य

  नकल रोकने के लिए हरियाणा बोर्ड की सख्ती हरियाणा बोर्ड ने सभी परीक्षाओं में …