फ्रैंकलिन टेंपल्टन पर सेबी की बड़ी कार्रवाई:दो साल तक डेट फंड लांच नहीं कर पाएगा, 5 करोड़ रुपए का जुर्माना, क्रिसिल की पूर्व एमडी पर भी फाइन

 

फ्रैंकलिन के निवेशकों को अब तक तीन किस्तों में पैसा मिल चुका है। चौथी किस्त का पैसा इस हफ्ते से मिल रहा है। इसके साथ ही कुल 17,778 करोड़ रुपए निवेशकों को मिल जाएगा - Dainik Bhaskar

फ्रैंकलिन के निवेशकों को अब तक तीन किस्तों में पैसा मिल चुका है। चौथी किस्त का पैसा इस हफ्ते से मिल रहा है। इसके साथ ही कुल 17,778 करोड़ रुपए निवेशकों को मिल जाएगा

  • यूनिट धारकों से ली गई इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट और एडवाइजरी फीस ब्याज के साथ लौटानी होगी
  • यह रकम 512 करोड़ रुपए होगी। यह रकम यूनिट धारकों को 21 दिनों के भीतर देनी होगी

फ्रैंकलिन टेंपल्टन म्यूचुअल फंड पर सेबी ने बड़ी कार्रवाई की है। सेबी ने इस फंड हाउस को अगले दो साल तक कोई भी डेट फंड लांच करने पर रोक लगा दी है। साथ ही इस पर 5 करोड़ रुपए का जुर्माना भी लगाया है। यह जानकारी सेबी ने एक आदेश में दी है। इसके साथ ही रूपा कुड़वा, विवेक कुड़वा और उनकी मां को 22 करोड़ रुपए वापस लौटाने का भी आदेश दिया है।

सेबी ने कहा कि विवेक कुड़वा ने अपनी पत्नी को कंपनी से जुड़ी जानकारी दी और इसी आधार पर स्कीम के बंद होने से पहले पैसे निकाल लिए गए।

यूनिट धारकों की फीस वापस करनी होगी

सेबी ने आदेश में कहा है कि फ्रैंकलिन टेंपल्टन को 4 जून 2018 से 23 अप्रैल 2020 के बीच डेट स्कीम के यूनिट धारकों से ली गई इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट और एडवाइजरी फीस भी ब्याज के साथ लौटानी होगी। यह रकम करीबन 512 करोड़ रुपए होगी। यह रकम यूनिट धारकों को 21 दिनों के भीतर देनी होगी। सेबी का यह ऑर्डर उस संबंध में आया है, जिसमें फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने अप्रैल 2020 में अपनी 6 डेट स्कीम को अचानक बंद कर दिया था।

26 हजार करोड़ रुपए निवेशकों का फंसा था

बंद की गई स्कीम्स का असेट अंडर मैनेजमेंट करीबन 26 हजार करोड़ रुपए था। असेट अंडर मैनेजमेंट मतलब निवेशकों का पैसा जितना उस स्कीम में है। सेबी ने आदेश में कहा कि यह पता चला है कि फ्रैंकलिन टेंपल्टन की डेट स्कीम में काफी सारी अनियमितताएं पाई गई हैं। इसमें ड्यू डिलिजेंस भी सही से नहीं किया गया। साथ ही रिस्क मैनेजमेंट फ्रेमवर्क भी सही नहीं था।

सेबी ने जांच शुरू की थी

सेबी ने इस मामले में जांच शुरू की थी। इसमें फ्रैंकलिन टेंपल्टन के ढेर सारे कर्मचारियों के खिलाफ भी जांच की गई थी। इसमें कंपनी के सीईओ और अन्य डायरेक्टर्स भी शामिल थे। फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने कहा कि वह इसके खिलाफ सेबी की अपीलेट बॉडी सैट में अपील करेगा। फ्रैंकलिन ने कहा कि सेबी के आदेश से हम पूरी तरह से असहमत हैं और हम सैट में अपील करेंगे। हम कंप्लायंस का पालन करते हैं और हमें विश्वास है कि यूनिटधारकों के हित में हम हमेशा काम करते हैं।

विवेक कुड़वा पर भी फाइन

सेबी ने अपने आदेश में कंपनी के एशिया पैसिफिक प्रमुख विवेक कुड़वा और उनकी पत्नी रूपा कुड़वा पर सिक्योरिटीज बाजार में 1 साल तक कारोबार करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। साथ ही दोनों पर 4 करोड़ और 3 करोड़ रुपए यानी सात करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। रूपा कुड़वा क्रिसिल में पहले एमडी रह चुकी हैं। इन दोनों ने फ्रैंकलिन की बंद 6 स्कीम्स में से अपने पैसे पहले ही निकाल लिए थे। इसलिए यह कयास है कि इन लोगों को स्कीम के बंद होने की जानकारी पहले से थी।

अचानक 6 डेट स्कीम बंद हो गई थी

बता दें कि 23 अप्रैल 2020 को फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने अचानक अपनी 6 डेट स्कीम्स को बंद करने का फैसला लिया था। इसमें निवेशकों के 26 हजार करोड़ रुपए फंस गए थे। इसके बाद सेबी ने फॉरेंसिंक ऑडिटर की नियुक्ति की और फिर जून 2020 में निवेशकों ने कोर्ट में अपील फाइल की। नवबंर 2020 में सेबी ने कंपनी के डायरेक्टर्स के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया। पिछले महीने फ्रैंकलिन के सेटलमेंट अप्लीकेशन को भी सेबी ने खारिज कर दिया। इसके बाद सोमवार को सेबी ने फाइनल ऑर्डर इस मामले में पास कर दिया।

फ्रैंकलिन के निवेशकों को अब तक तीन किस्तों में पैसा मिल चुका है। चौथी किस्त का पैसा इस हफ्ते से मिल रहा है। इसके साथ ही कुल 17,778 करोड़ रुपए निवेशकों को मिल जाएगा। कोर्ट ने आदेश दिया था कि निवेशकों का पैसा लौटाया जाए और इसके लिए एसबीआई म्यूचुअल फंड को मॉनिटरिंग करने का आदेश दिया था।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

सुरक्षित सरकारी योजना के तहत जमा कराएं अपना पैसा और पाएं सबसे ज्यादा ब्याज

  नई दिल्ली: बीते कुछ वर्षों से भारतीय अर्थव्यवस्था लगातार हिचकोले खा रही है। यही कारण है …