फ्रांस के छह नागरिक समेत दो गाइड की गोली मारकर हत्या, यूरोप के कई देशों ने लोगों को नाइजर की यात्रा न करने की चेतावनी दी

पश्चिमी अफ्रीका के देश नाइजर में रविवार को फ्रांस के छह लोगों और उनके दो लोकल गाइड की हत्या कर दी गई। ये सभी नाइजर में काउरे जिराफ पार्क घूमने गए थे। नाइजर के गृह मंत्री ने इसकी जानकारी दी। फ्रांस के राष्ट्रपति कार्यालय ने भी इसकी पुष्टि की है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने इस मामले को लेकर नाइजर के राष्ट्रपति महमदू इसूफू से बात की। मैक्रों ने इस हमले को कायराना हरकत करार दिया है। उन्होंने कहा है वे नाइजर के सालेह क्षेत्र में आतंक के खात्मे में हरसंभव मदद करेंगे।

हमले में मारे गए फ्रांस के नागरिक नाइजर में स्थानीय लोगों की मदद से जुड़े कामों को कर रहे थे। यूरोप के कई देशों ने अपने लोगों से नाइजर की यात्रा नहीं करने की चेतावनी दी है। फ्रांस ने नाइजर में रहने वाले लोगों से कहा है कि वे राजधानी नियामी के बाहर न जाएं। हमले में काउरे जिराफ रिजर्व गाइड एसोसिएशन के अध्यक्ष की भी मौत हुई है।

हमला नाइजर के प्रमुख टूरिस्ट प्लेस पर हुआ

हमला जिस काउरे जिराफ पार्क में हुआ वह नाइजर का एक प्रमुख टूरिस्ट प्लेस है। यहां करीब 72 किमी. के दायरे में घने जंगल हैं। इस क्षेत्र में बोको हरम, आईएस (इस्लामिक स्टेट) और अल कायदा जैसे आतंकी संगठन सक्रिय हैं। ये आतंकी संगठन नाइजर की सीमा से सटे माली, बुर्किना फासो, नाइजीरिया और लीबिया जैसे देशों में आतंकी घटनाओं को अंजाम देते हैं।

तीन साल पहले काउरे पार्क में अमेरिकी सैनिकों की हत्या हुई थी

जिराफ पार्क नाइजर के तिलाबेरी इलाके में हैं। यहीं पर 2017 में आईएस से जुड़े जेहादियों ने चार अमेरिकी सैनिकों की हत्या की थी। आतंकी घटनाओं को देखते हुए फ्रांस ने अपने सैनिकों को तैनात किया है। इसके साथ ही आसपास के कुछ दूसरे छोटे देशों की एक फोर्स भी यहां तैनात है। इसके बावजूद यहां पर आतंकी घटनाओं में कमी नहीं आई है।

 

Check Also

पाक सूफी संगठन ने 110 साल पुरानी सिख पांडुलिपियों को किया गुरुद्वारे में ट्रांसफर

इस्लामाबाद: एक पीर के घर पर 90 साल तक सुरक्षित रखी गईं गुरु ग्रंथ साहिब की …