प्रदेश में दिन में पारा हाई:जून में पहली बार चली लू, अगले 6 दिन प्री-मॉनसून की बरसात, रात में कई जिलों में आंधी-बारिश

 

  • उत्तर हरियाणा में 70 मिलीमीटर तक पानी बरसने का अनुमान

प्रदेश में तीन दिन से लू चल रही है। इससे तापमान सामान्य से 5 डिग्री तक ज्यादा हो गया है। गुरुवार को रात का तापमान सिरसा में 32.4 और हिसार में 32.1 डिग्री तक पहुंच चुका है। वहीं, दिन का तापमान हिसार में 44.7 डिग्री दर्ज किया गया। इसके चलते उमसभरी गर्मी से लोग परेशान रहे। रात में कई जिलों में तेज आंधी के साथ बूंदाबांदी हुई। इससे कई जगह पेड़ व खंभे टूटने से बिजली सप्लाई बाधित हुई।

मौसम विभाग के अनुसार, जून में पहली बार लू चली है। अब 11 से 16 जून तक प्री-मॉनसून की बारिश की संभावना है। 12-13 को उत्तर हरियाणा के पंचकूला, अम्बाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, करनाल, कैथल व साथ लगते इलाकों में भारी बारिश का अलर्ट है। कई जगह 60-70 मिमी. बारिश हो सकती है। आईएमडी चंडीगढ़ के निदेशक डॉ. एके सिंह के अनुसार, इस बार मॉनसून तय समय पर आने का अनुमान है। बारिश भी सामान्य हो सकती है।

मॉनसून ने जब समय पर दस्तक दी, तब अच्छी बारिश हुई, इस बार ऐसा ही अनुमान

  • प्रदेश में मॉनसून आने की तारीख 27 जून है। मॉनसून सीजन में करीब 460 मिमी. बारिश सामान्य मानी जाती है।
  • पिछले 10 साल से सामान्य से कम बारिश हो रही है। 400 मिमी. का आंकड़ा भी सिर्फ 2018 में क्रॉस हो पाया था।
  • पिछले 20 साल में यह देखने में आया है कि जब मॉनसून ने समय पर दस्तक दी है, तब अच्छी बारिश हुई।
  • साल 2001 में मॉनसून 26 जून को आया, तब 479.3 मिमी. बारिश हुई। 2003 में 27 जून को आया तो 620 मिमी. पानी बरसा।
  • 2005 में 27 जून को आया तो 476 मिमी. बारिश हुई। 2018 में 28 जून को मॉनसून आया था, तब 415 मिमी. बारिश हुई थी।
  • 10 साल में 4 बार मॉनसून जुलाई में आया। 2012 में 6 जुलाई, 2014 में 1 जुलाई, 2016 में 2 जुलाई, 2017 में 3 जुलाई आया।

मॉनसून समय पर आने से धान रोपाई तेजी से होगी

प्रदेश में समय पर मॉनसून आता है तो 14 से 15 लाख हेक्टेयर में धान की रोपाई तेजी से होगी। 5 लाख हेक्टेयर में बाजरा, 3 लाख हेक्टेयर में ग्वार की बिजाई समय पर हो सकेगी। 6 लाख हेक्टेयर कपास को लाभ होगा।

मॉनसून अच्छा बरसा तो भू-जलस्तर में सुधार होगा

प्रदेश में भू-जल स्तर लगातार नीचे जा रहा है। यदि लंबे समय तक मॉनसून टिका रहेगा और 400 से 500 मिमी. बारिश होती है तो इससे भू-जल स्तर में बढ़ोतरी हो सकेगी। अभी भू-जलस्तर औसतन 21.16 मीटर के करीब है।

बंगाल की खाड़ी से नमी वाली हवाएं होंगी दाखिल

एचएयू के मौसम विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन खीचड़ के अनुसार, बंगाल की खाड़ी से नमी वाली हवाएं हरियाणा में दाखिल होंगी। इससे 11 से 16 जून तक बारिश का असर रह सकता है। कुछ इलाकों में तेज बारिश होगी।

मॉनसून ने पकड़ी रफ्तार

मॉनसून पूरे महाराष्ट्र में छाया, भारी बारिश का अलर्ट जारी किया

  • महाराष्ट्र में 5 दिन के अंदर माॅनसून पूरे राज्य में छा गया है। विदर्भ व कोंकण सहित राज्य के कई हिस्सों में 13 जून तक भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। इसके मद्देनजर एनडीआरएफ की 15 टीमें महाराष्ट्र में तैनात की हैं।
  • माॅनसून ने महाराष्ट्र, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश के बचे हुए सभी हिस्साें तक भी पहुंच बना ली है। यह गुजरात के सूरत, मध्य प्रदेश के मंडला, बैतूल, छत्तीसगढ़ के बिलासपुर और ओडिशा के पुरी, बोलांगीर तक पहुंच चुका है।
  • उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गुरुवार को भारी बारिश हुई। इससे कई जगह जलभराव की स्थिति बन गई। कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ और उडुपी में गुरुवार, 11 जून के लिए यलो और शनिवार-रविवार के लिए रेड अलर्ट जारी किया।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

शहीद कुशल कोंवर की मनायी गयी 78वीं पुण्य तिथि

गुवाहाटी, 15 जून (हि.स.)। कोरोना रोकथाम के पूरे नियम-कायदों का पालन करते हुए मंगलवार को गुवाहाटी …