प्रदीप और श्रीकांत के होने से बिना किसी तनाव के खेलने में मदद मिलती है : सुरेंद्र गिल

बेंगलुरु, 25 जनवरी (हि.स.)। जीएमआर ग्रुप की प्रो कबड्डी लीग फ्रैंचाइज़ी यूपी योद्धा अपने पिछले 5 मैचों में शानदार प्रदर्शन कर रही है। परंपरागत रूप से सबसे मजबूत डिफेंस के लिए जानी जाने वाली टीम ने स्टार रेडर प्रदीप नरवाल को शामिल करने के साथ ही टीम का रेडिंग विभाग भी सशक्त कर लिया है और इसी कारणवश योद्धा अंक तालिका में शीर्ष 4 पर काबिज़ हैं। हालाँकि आश्चर्यजनक रूप से योद्धाओं के लिए सुर्खियां बटोरने वाले प्रदीप नहीं है, जबकि उनका पुराना घोड़ा सुरेंद्र गिल है जो इस बार टीम के लिए एक रेडर के रूप में चमकता सितारा बनकर उभरा है।

रोहतक के एक छोटे से गांव के रहने वाले सुरेंद्र गिल वर्तमान में इस सीजन में 12 मैचों में कुल 111 अंकों के साथ ‘टोटल पॉइंट्स’ की तालिका में पांचवें स्थान पर हैं। गिल के पास 12 मैचों में 5 सुपर रेड भी हैं, और वह मनिंदर सिंह के ठीक पीछे हैं जो 7 सुपर रेड के साथ ‘सुपर रेड’ चार्ट का नेतृत्व कर रहे हैं । इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि उनके व्यक्तिगत फॉर्म ने योद्धाओं के लिए कई मैचों के परिणाम बदलने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

गिल ने दादरी में अकादमी के साथ अपनी कबड्डी यात्रा की शुरुआत की और उसके बाद वह ऑल इंडिया यूनिवर्सिटी (अखिल भारतीय विश्वविद्यालय) स्तर पर खेले। एक औसत कबड्डी खिलाड़ी होने के नाते, गिल ने कुछ ही समय में अपने खेल के माध्यम से खुद को बदल लिया और अब देश में एक प्रसिद्ध कबड्डी स्टार बन गए हैं।

गिल ने इस सीजन में अब तक के उनके प्रदर्शन के बारे में पूछे जाने पर कहा, “मैं अपने प्रदर्शन से बहुत खुश हूं और पिछले साल के मुकाबले मेरे खेल में काफी परिवर्तन हुआ है, मैंने इस सीजन के लिए कड़ी मेहनत की है और मुझे अपनी टीम के लिए प्रदर्शन करने से खुश हूं। मेरे प्रदर्शन का एक बड़ा हिस्सा सीजन की शुरुआत से पहले मेरठ में हमारी यूपी योद्धा बीके कबड्डी अकादमी में कुछ कठोर प्रशिक्षण सत्रों का परिणाम भी है।”

इस सीजन में अपने सुपर रेड और ट्रांसफॉर्मेशन के पीछे के रहस्य पर उन्होंने बताया,”मुझे मैट पर कोई दबाव महसूस नहीं होता है। प्रदीप भाई और श्रीकांत भाई के होने से मुझे बिना किसी तनाव के स्वाभाविक रूप से खेलने में मदद मिलती है और इस तरह मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दे पा रहा हूँ।”

अपने प्रशिक्षण कार्यक्रम और भूमिका के बारे में बात करते हुए सुरेंद्र ने कहा, “किसी भी खिलाड़ी के लिए व्यक्तिगत रूप से कोई भी विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम नहीं हुआ है, हमारी टीम के हर खिलाड़ी के साथ कोच ने सामान्य व्यवहार करते हैं और सभी को एक जैसी ही ट्रेनिंग प्रदान करते हैं । हम उनके मार्गदर्शन में काम कर रहे हैं। हम सभी एक परिवार की तरह हैं और इसका एक बड़ा हिस्सा मेरठ में हमारे अत्याधुनिक यूपी योद्धा बीके कबड्डी अकादमी में हमारे सीज़न से पूर्व प्रशिक्षण के कारण हुआ। इससे वास्तव में हमें एक-दूसरे के साथ अच्छी तरह से घुलने-मिलने में मदद मिली है जिससे हमें मैट पर काफी सहायता प्राप्त हो रही है। टीम के भीतर हम सभी की विशिष्ट भूमिकाएं हैं, इस साल कोच ने मुझे बोनस अंक अर्जित करने के लिए प्रशिक्षित किया।”

यूपी योद्धा का अगला मुकाबला 27 दिसंबर, 2022 को जयपुर पिंक पैंथर्स से होगा।

Check Also

‘तारा आपको बड़ा नहीं बनाएगी’: RCB की हार के बाद ट्रेंड हुआ #Chokli

आरसीबी एक बार फिर आईपीएल जीतने से चूक गई है। क्वालिफायर-2 में आरसीबी का सामना राजस्थान …