प्यारे मियां ने जिन भरी बोतलों में पुलिस को बताया रंगीन पानी, उनमें भरी थी 1 लाख से ज्यादा की 10 लीटर विदेशी शराब

 

प्यारे मियां के घर बार में सजीं शराब की बोतलें। पुलिस सर्चिंग के लिए पहुंची, तो बताया था बोतलों में भरा है रंगीन पानी।

बालिकाओं के यौन शोषण के मामले में गिरफ्तार आरोपी प्यारे मियां के लालाराम नगर स्थित घर से 10 लीटर विदेशी शराब जब्त हुई है। इसकी कीमत एक लाख 20 हजार रुपए बताई जा रही है। आरोपी ने घर में ही बार बना रखा था। पलासिया पुलिस ने आबकारी अधिकारियों से जांच कराने के बाद प्यारे मियां पर एक और केस दर्ज किया है।

अलग-अलग ब्रांड की विदेशी शराब यहां मिली थीं।

अलग-अलग ब्रांड की विदेशी शराब यहां मिली थीं।

पलासिया पुलिस के मुताबिक- भोपाल पुलिस ने इस बार को सील कर दिया था। अवैध निर्माण तोड़ते समय नगर निगम की टीम ने फिर यहां सर्चिंग की तो ये चीजें मिलीं। निगम की टीम ने ताला तोड़कर बार में रखी महंगी शराब की बोतलें पुलिस को सौंप दीं।

प्यारे मियां ने बोतलों में रंगीन पानी भरा हुआ है…कहकर पुलिस को बरगला दिया था

गौरतलब है कि जब भोपाल और इंदौर पुलिस ने इस घर की सर्चिंग की थी, तो प्यारे मियां ने यह कहकर बरगला दिया था कि बोतलों में रंगीन पानी भरा है। पुलिस ने तभी उसे सील कर दिया था। अब जब आबकारी अधिकारियों ने अपनी रिपोर्ट दी, तो पता चला उसमें शराब थी। प्यारे मियां अभी जबलपुर जेल में है।

सोफे के नीचे एक तलवार भी मिली थी।

सोफे के नीचे एक तलवार भी मिली थी।

मकान में दो बार सर्चिंग के बाद भी मिली थी शराब और आपत्तिजनक सामग्री

यौन शोषण के आरोपी प्यारे मियां के लाला रामनगर स्थित घर का भी अतिक्रमण शनिवार को तोड़ दिया गया था। यौन शोषण के आरोपी नूर मोहम्मद उर्फ प्यारे मियां के 29 लाला रामनगर स्थित मकान पर कार्रवाई के लिए उपायुक्त लता अग्रवाल और जोनल अधिकारी नागेंद्र सिंह भदौरिया शनिवार को पहुंचे थे। यहां भोपाल पुलिस ने सबसे पहले छापा मारा था और सर्चिंग के बाद मकान सील कर दिया था। इसके बाद संयोगितागंज पुलिस ने भी छापा मार कर दोबारा सील किया था। यह मकान 2005 में प्यारे मियां ने खरीदा था। इसके आगे बालकनी और दूसरी मंजिल पर हॉल अवैध रूप से बना था।

आपत्तिजनक सामग्री भी घर पर मिली थी।

आपत्तिजनक सामग्री भी घर पर मिली थी।

निगम की टीम पहुंची, तो पता चला दूसरी मंजिल पर बार बना रखा था। इसमें 5-5 लीटर की शराब की बोतलें रखी थीं। इसके अलावा यहां आपत्तिजनक सामग्री और ताश की गड्डियां भी मिलीं। संयोगितागंज पुलिस को बुलाकर यह सामान सौंप दिया गया। मकान सील होने के बावजूद बोतलें मिलने से पुलिस कार्रवाई पर सवाल उठ रहे हैं।

 

Check Also

किसानों के आगे झुकी केंद्र सरकार, निरंकारी ग्राउंड में प्रदर्शन करने से किसानों ने किया इनकार

नई दिल्ली। कृषि कानून को लेकर दिल्ली में प्रदर्शन करने की मांग करने वाले किसानों को …