‘पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक नये साल की सौगात है’

बीजिंग, 26 जनवरी (आईएएनएस) चीनी परंपरागत नया साल यानी वसंत त्योहार करीब आ रहा है। इसके साथ-साथ पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक भी उद्घाटित होने वाला है। इस संदर्भ में कहा जा सकता है कि पेइचिंग शीतकालीन आलंपिक चीन से पूरे विश्व को प्रस्तुत करने वाला नये साल की सौगात होगी। निसंदेह पूरे विश्व की नजर पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक और इस के बाद होने वाले शीतकालीन पैरा-ओलंपिक पर पड़ेगी। उल्लेखनीय बात है कि वर्ष 2008 में पेइचिंग ने 29वें ग्रीष्मकालीन ओलंपिक का सफल आयोजन किया था। 14 साल बाद 4 फरवरी को ओलंपिक मशाल फिर से पेइचिंग शहर में प्रज्वलित होगी। इस तरह हजारों वर्ष पुराना पेइचिंग शहर विश्व में पहला ग्रीष्म और शीतकालीन दोनों ओलंपिक आयोजित करने वाला शहर बन जाएगा। 140 करोड़ चीनी जनता के लिए यह बड़े गौरव की बात है।

16 दिन चलने वाले पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक में विभिन्न देशों व क्षेत्रों के खिलाड़ी विश्व के सामने अपने आइस और स्नो हुनर दिखाएंगे और अपने सपने का अनुसरण करेंगे ।इस के साथ वे चीन से वकालत हरित ,समावेशी ,खुले और स्वच्छ ओलंपिक को महसूस भी कर सकेंगे। उल्लेखनीय बात है कि पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक और पैरा ओलंपिक के सभी मैच स्थलों में हरित बिजली का उपयोग होगा और कार्बन तटस्थता पूरी की जाएगी। यह इतिहास में पहली बार होगा।

कोविड-19 महामारी विश्व भर में फैल रही है। अवश्य ही पेइचिंग भी गंभीर चुनौतियों का सामना कर रहा है, पर पेइचिंग ने कोविड की रोकथाम और नियंत्रण के लिए खूब एहतियाती भरे कदम उठाये हैं ,जैसे रिमोट नियंत्रण कदम ,बायो बबल तंत्र , सख्त जांच ,आपात घटना का निपटारा और इत्यादि। पेइचिंग ने एक सरल ,सुरक्षित और शानदार ओलंपिक के आयोजन पर पक्का विश्वास जताया है। अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष थॉमस बाख ने पेइचिंग की तैयारियों की प्रशंसा की है।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय में अमेरिका और उस के कुछ मित्र देशों ने तथाकथित मानवाधिकार का उल्लंघन कर पेइचिंग ओलंपिक के प्रति राजनयिक बहिष्कार का रूख अपनाया है। लेकिन चीन पर लगाये गये आरोप एकदम निराधार हैं। अमेरिका सिर्फ इस मौके का उपयोग कर चीन को नियंत्रित करने की कुचेष्टा कर रहा है।

विश्व के अधिकांश देशों ने पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक के आयोजन का समर्थन और खेल के राजनीतिकरण का विरोध किया। भारत समेत दक्षिण एशिया के सभी देश पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक के समर्थन के पक्षधर हैं।

ओलंपिक का मूल उद्देश्य मानवता में खेल भावना का प्रचार करना और एक शांतिपूर्ण और बेहतर विश्व के निर्माण में योगदान देना है। पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक और पैरा ओलंपिक विश्व भर मित्रता और सहयोग की मजबूती के लिए अपनी भूमिका निभाएगा।

Check Also

IBA खिलाड़ी समिति की अध्यक्ष बनीं लवलीना, बोलीं- भारतीय मुक्केबाजी को बढ़ावा देने में मिलेगी मदद

नई दिल्ली: ओलंपिक कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन को खिलाड़ी समिति का अध्यक्ष चुना गया और …