पहले धन गंवाया, अब जान भी दे दी:ऐतिहासिक चोरों की बावड़ी में कूदा युवक, पहले फोन पर वीडियो बनाया; दो पेज के सुसाइड नोट में भी बताई पूरी कहानी

रोहतक जिले गांव सैमाण के 22 वर्षीय हिमांशु उर्फ पिंकू की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar

रोहतक जिले गांव सैमाण के 22 वर्षीय हिमांशु उर्फ पिंकू की फाइल फोटो।

हरियाणा के महम में रविवार को एक युवक ने ऐतिहासिक चोरों की बावड़ी में कूदकर जान दे दी। इससे पहले उसने मोबाइल पर वीडियो भी बनाया। मृतक साइबर ठगों के झांसे में आकर लाखों रुपए लुटा चुका था। सुसाइड नोट में बैंक मैनेजर और बीमा एजेंट को अपनी मौत के लिए जिम्मेदार ठहराया है। पुलिस ने इस शव को पोस्टमॉर्टम के लिए रोहतक PGIMS भेज दिया और केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

मृतक की पहचान मूल रूप से गांव सैमाण निवासी 22 वर्षीय हिमांशु उर्फ पिंकू पुत्र इंद्रजीत के रूप में हुई है। वह काफी समय से महम के वार्ड-5 में रहता था। इंद्रजीत की कस्बे में खाद-बीज की दुकान है। हिमांशु भी कारोबार में हाथ बंटाता था। बताया जा रहा है कि शनिवार शाम को वह अचानक लापता हो गया। रविवार को उसका शव ऐतिहासिक चोरों की बावड़ी (ज्ञानी चोर की सुरंग) से मिला।

चौकीदार ने मोबाइल पड़ा देखा तो पुलिस को सूचना दी

पुलिस के मुताबिक रविवार को बावड़ी के चौकीदार जब बावड़ी के पास पहुंचे तो वहां एक कमीज और मोबाइल फोन पड़ा देखा। इसकी सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस कर्मी मौके पर पहुंचे और बावड़ी में झांककर देखा तो युवक का शव पड़ा मिला। मोबाइल बरामद कर लिया। आसपास जांच की तो बावड़ी के साथ लगती दीवार में एक कागज भी फंसा देखा। उसके निकालकर देखा तो उसमें आत्महत्या जैसा खौफनाक कदम उठाए जाने की वजह का जिक्र था। पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए रोहतक PGIMS भेज दिया है।

जांच अधिकारी ने कहा- फोन चार्ज कर वीडियो के बारे में पता किया जाएगा

मामले के जांच अधिकारी अख्तर हुसैन का कहना है कि फोन को चार्ज करके वीडियो के बारे में पता किया जाएगा। सुसाइड नोट भी मिला है, जिसकी जांच की जाएगी। पुलिस को परिजनों ने बताया कि हिमांशु के नाम पर SBI बैंक में FD थी। कुछ माह पहले उसके पास अनजान नंबर से फोन आया, जिसने खुद को SBI का अधिकारी बताया। उसने FD का ड्रा निकालने की हवाला देते हुए कुछ कागज मांगे। हिमांशु ने कागज उसके पास भेज दिए।

इसके बाद बताया गया कि जो FD की पॉलिसी करवाई गई है, वह नियमों के मुताबिक गलत है। ब्रांच में केस डाल दिया गया है, जिसमें कहा गया है कि 36 लाख आपके वापस कर दिए जाएं। इसके लिए 18 लाख रुपए जमा करवाने होंगे। हिमांशु ने फोन करने वाले व्यक्ति के खाते में 18 लाख रुपए जमा करवा दिए। इसके बाद भी उसे डर-धमकाकर रुपए ठगते रहे। उसने झांसे में आकर लाखों रुपए लुटा दिए। साइडर ठगों ने उसे मुंबई भी बुलाया। वह अपने पिता के साथ मुंबई भी गया, लेकिन न तो वहां कोई व्यक्ति मिला और न ही मोबाइल नंबर लगा। इसी से वह मानसिक तनाव में था।

बावड़ी के चौकीदार से सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे। कुएं में हिमांशु का शव पड़ा मिला। बाहर उसकी कमीज और मोबाइल था। दीवार में एक सुसाइड नोट भी फंसा था, जिसमें सुसाइड किए जाने का जिक्र है। मामले की जांच पड़ताल की जा रही है।

 

Check Also

खड़गे ने की राज्यसभा के सभापति से मुलाकात

नई दिल्ली : राज्यसभा में प्रतिपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने शनिवार को राज्यसभा के …