पलामू में घूस लेते रोजगार सेवक गिरफ्तार:रोजगार गारंटी अधिनियम फॉर्म पर साइन करने के लिए मांगी थी रिश्वत, ACB ने रंगे हाथों किया गिरफ्तार

 

गिरफ्तार करने के बाद रोजगार सेवक को ACB कार्यालय लाया गया। - Dainik Bhaskar

गिरफ्तार करने के बाद रोजगार सेवक को ACB कार्यालय लाया गया।

भ्रष्ट सरकारी कर्मियों के खिलाफ एंटी करप्शन ब्यूराे (ACB) की कार्रवाई लगातार जारी है। पलामू ACB की टीम ने मंगलवार को एक घूसखोर रोजगार सेवक को 10 हजार रुपए रिश्वत लेते धर दबोचा। मनरेगा योजना के एक कार्य में रोजगार सेवक ने घूस की डिमांड की थी। रोजगार गारंटी अधिनियम फॉर्म पर साइन करने के नाम पर वो घूस की डिमांड कर रहा था।

अब्दुल रहमान नामक रोजगार सेवक छतरपुर प्रखण्ड कार्यालय में कार्यरत है। छतरपुर थाना क्षेत्र के कंचनपुर गांव के रहने वाले नरेश कुमार यादव के पुत्र शंभू कुमार यादव (25) ने मनरेगा योजना में काम किया था। राशि निर्गत कराने के लिए रोजगार गारंटी अधिनियम फॉर्म पर रोजगार सेवक का साइन जरूरी था। फॉर्म पर साइन करने के बदले रोजगार सेवक अब्दुल रहमान 10 हजार रुपए घूस की मांग कर रहा था। शंभू ने फॉर्म पर साइन करने के लिए अब्दुल रहमान से कई बार आग्रह किया। लेकिन उसने घूस लिए बिना साइन करने से इनकार कर दिया।

इसके बाद परेशान होकर शंभू ने इसकी शिकायत ACB के पलामू प्रमंडलीय कार्यालय में दर्ज कराई। ACB ने अपने स्तर से जांच में मामले को सही पाया। इसके बाद रोजगार सेवक को गिरफ्तार करने की रणनीति बनाई गई। तय हुआ कि शिकायकर्ता शंभू ब्लॉक कार्यालय में घूस की रकम देगा। उसी वक्त ACB उसे रंगे हाथ गिरफ्तार कर लेगी। प्लान के मुताबिक शिकायतकर्ता से जैसे ही रोजगार सेवक ने घूस लिया, वहां मौजूद ACB टीम ने उसे धर दबोचा। गिरफ्तार करने के बाद रोजगार सेवक को ACB कार्यालय लाया गया।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

वैक्सीन पर कांग्रेस ने फैलाया भ्रम, देशवासियों के स्वास्थ्य को खतरे में डाला : भाजपा

रामगढ़ : कोरोना के खिलाफ चल रही जंग को कांग्रेस ने लगातार कमजोर करने की …