परिवहन मंत्री की सार्वजनिक भोज से तौबा:बस हादसे में शवों की सर्चिंग के दौरान मंत्रियों के भोज का फोटो कांग्रेस ने किया था वायरल, अब मंत्री बोले- एक साल दूर रहूंगा

 

यही वह फोटो है, जिसे कांग्रेस ने सोशल मीडिया में वायरल करके सवाल किया था।

  • कांग्रेस का पलटवार, कहा- इस्तीफा देकर प्रायश्चित करें

बसंत पंचमी के दिन सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया के आवास पर भोज का फोटो वायरल हाेने पर परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बड़ा निर्णय लिया है। मंत्री ने कहा कि वे एक साल तक सार्वजनिक कार्यक्रम में भोजन नहीं करेंगे। सीधी हादसे के बीच रेस्क्यू ऑपरेशन चलने के दौरान कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री केके मिश्रा ने मंत्री के भोज का एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल कर किया था। इस पर लिखा था कि प्रशासन लाशें गिन रहा है। वहीं, जिम्मेदार परिवहन मंत्री गाेविंद सिंह राजपूत अपने सहयोगी मंत्री के घर भोजन का लुत्फ उठाकर ठकाके लगा रहे हैं। ये होती है बेशर्मी की इंतेहां? क्या इस पर सीएम साहब कुछ कहेंगे? इसके बाद परिवहन मंत्री की तरफ से साधा खाना खाने और अन्य मंत्रियों के भी होने का बयान सामने आया था।

मंत्री बोले- अंर्तरात्मा की आवाज से निर्णय लिया

रविवार को परिवहन मंत्री ने मंत्री के कहा कि उन्होंने अंतर्रात्मा की आवाज से एक निर्णय लिया है। किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम में एक साल तक भोज नहीं करूंगा। मंत्री ने बताया कि मंत्री अरविंद भदौरिया के घर पर बसंत पंचमी के दिन सरस्वती जी का पूजन था। जिसमें प्रसादी का वितरण भी था। प्रसादी को उन्होंने भी कुछ साथियों के साथ ग्रहण किया। मंत्री ने कहा कि उनके प्रसाद ग्रहण करने के फोटो को कुछ लोगों ने वायरल कर दिया। विपक्ष ने इसका मुद्दा बना दिया। इससे उनको दु:,ख हुआ है। इसलिए अब विपक्ष को कोई मुद्दा न मिले। इसलिए वह एक साल सार्वजनिक कार्यक्रम में भोजन नहीं करेंगे।

क्या था मामला
मध्यप्रदेश में 16 फरवरी को सतना से सीधी जा रही बस रामपुर नैकिन क्षेत्र में नहर में गिर गई थी। इसमें 54 यात्रियों की मौत हो गई थी। इस दुर्घटना का रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा था। इस बीच मंत्री के भोज का फोटो सामने आने पर कांग्रेस ने निशाना साधा था। इस दुर्घटना में 50 से ज्यादा लोगों की मौत हुई।

इस्तीफा देकर करें प्रायश्चित
कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष भूपेन्द्र गुप्ता ने कहा कि प्रायश्चित करने की दृष्टि से इतनी बड़ी दुर्घटना के बाद मंत्री का कदम सकारात्मक तो है, लेकिन उनको अपने नेताओं के तरफ देखना चाहिए। रेल दुर्घटना पर माधवराव सिंधिया ने इस्तीफा दे दिया था। इसके अनुसार उन्हें प्रायश्चित करना चाहिए। गुप्ता ने कहा कि और बेहतर होता कि परिवहन मंत्री दुर्घटना स्थल पर जाते। लोगों के आसूं पोछते और जिम्मेदारों पर कार्रवाई करते।

 

Check Also

कोचिंग जाते समय छात्रा को टक्कर मारी, मौत:हादसे के बाद ड्राइवर मौके से फरार, किसान आंदोलन की वजह से रास्ता बदलकर कस्बे के रास्ते जा रहा था डंपर

  मृतका कुमकुम । जिले के बानसूर कस्बे के पास भूपसेड़ा से बानसूर पैदल जा …