पम्प हाउस में अंग्रेजी माध्यम स्कूल के लिए हिन्दी के छात्रों को अन्यत्र भेजने का विरोध, वादा खिलाफी का लगाया आरोप

कोरबा : वार्ड शिक्षा समिति राजीव गांधी प्राथमिक शिक्षा मिशन शासकीय प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक शाला पंप हाउस के पूर्व अध्यक्ष विनोद सिन्हा ने बुधवार को जारी एक बयान में बताया कि पंप हाउस में नए अंग्रेजी माध्यम विद्यालय खोले जाने पर पूर्व से संचालित हिंदी माध्यम विद्यालय बंद करने का विरोध किया है। पम्प हाउस के निवासियों द्वारा हिंदी माध्यम स्कूल का अस्तित्व बरकरार रखने के लिए एक समिति का गठन किया गया है जिसमें पूर्व वार्ड अध्यक्ष विनोद सिन्हा , पूर्व व्याख्याता डॉ उमेश प्रसाद साहू एवं पूर्व पार्षद उम्मीदवार रामकुमार साहू शामिल हैं। उन्होंने बताया है कि पंप हाउस में 1970 के दशक में स्थापित प्राथमिक, पूर्व माध्यमिक शाला व हाई स्कूल हिंदी मीडियम संचालित हो रही है जो कोयलांचल का द्वितीय विद्यालय है । पंप हाउस की कुल आबादी लगभग 10,000 से अधिक है जिसमें 30% एस ई सी एल के कर्मचारी निवासरत है तथा 70% गरीब मजदूर निवास करते हैं, जिनके बच्चे शासकीय विद्यालयों में अध्ययनरत थे।
सिन्हा ने बताया कि 2020 में अंग्रेजी माध्यम विद्यालय स्थापना की घोषणा की गई थी जिसमें कहा गया था कि हिंदी मध्यम स्कूल के साथ अंग्रेजी माध्यम स्कूल का भी संचालन होगा लेकिन अभी हिंदी माध्यम के विद्यालय जिनका अपना भवन प्राथमिक शाला से लेकर हाईस्कूल तक है । हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों को पंप हाउस से 4 किलोमीटर दूर अंधरी कछार स्थानांतरित किया जा रहा है। उस रूट में भारी ट्रैफिक जाम रहता है जिससे छात्र दुर्घटनाग्रस्त हो सकते हैं। पंप हाउस के पालकों ने अंग्रेजी माध्यम विद्यालय को हिंदी माध्यम भवनों में स्थानांतरित कर हिंदी माध्यम बच्चों को पंप हाउस से निष्कासित करने का विरोध किया है। आम जनता का कहना है कि अंग्रेजी माध्यम स्कूल की स्थापना का हम विरोध नहीं करते हैं लेकिन हिंदी माध्यम विद्यालय को न हटाया जाए जब तक अंग्रेजी माध्यम का भवन निर्माण नहीं किया जाता है तब तक हिंदी माध्यम विद्यालय के भवनों में दो शिफ्ट एक पाली में हिंदी माध्यम दूसरे पाली में अंग्रेजी माध्यम विद्यालय का संचालन किया जाए। अगर ऐसा नहीं होता है तो अंग्रेजी माध्यम विद्यालय यहां के पालक नहीं चलने देंगे।
सिन्हा ने आगे बताया कि जांजगीर जिले में इसी प्रकार की समस्या आने पर वहां के विद्यालयों में दो पालियो मे हिंदी व अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों का संचालन होने का शासन की ओर से आदेश दिया गया है जिसे पंप हाउस विद्यालयों में भी लागू किया जाए। सिन्हा ने आगे बताया कि स्कूल शिक्षा विभाग छत्तीसगढ़ शासन के प्रमुख सचिव डॉ आलोक शुक्ला द्वारा दिनांक 17 सितम्बर 2020 को 12 बजे पंप हाउस अंग्रेजी स्कूल का निरीक्षण करेंगे इस अवसर पर समिति द्वारा हिंदी माध्यम विद्यालय पूर्व की तरह संचालित होने के लिए एक ज्ञापन सौंपा जाएगा।

 

Check Also

प्रधानमंत्री ने कहा- जब भारत मजबूत था तो किसी को सताया नहीं; जब मजबूर था, तब किसी पर बोझ नहीं बना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को तीसरी बार संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) की 75वीं बैठक …