पति पर था अवैध संबंध का शक तो पत्नी ने सौतन को कुल्हाड़ी से काट दिया, शव को नाले में दफनाया

मध्य प्रदेश के कटनी के ढीमरखेड़ा थाने इलाके में पत्नी ने विवाद के बाद अपने पति की प्रेमिका की सिर पर कुल्हाड़ी मार हत्या कर दी. हत्या करने के बाद पत्नी ने शव को ठिकाने लगाने के लिए अपने भाई की मदद से उसे नाले में दफना दिया. ताकि किसी को भी जानकारी ना लगे. पुलिस ने आरोपी भाई-बहन को रविवार को गिरफ्तार कर लिया और पूछताछ में महिला ने जुर्म भी कबूल कर लिया है.

पति-पत्नी और प्रेमिका मिलकर रह रहे थे साथ

कटनी एसपी मयंक अवस्थी ने बताया, कि मृतका रुक्मिणी 11 मई 2020 को ही अपने पति नरेश बर्मन को छोड़कर बिना बताए चली गई थी. रुक्मिणी के इस तरह अचानक गायब होने से पति ने कुंडम थाने में मामला दर्ज कराया. पुलिस जांच में पता चला कि रुक्मिणी गांव के ही पूरनसिंह से प्यार करती थी और पूरनसिंह भी शादीशुदा है. और रुक्मिणी की तरह उसके भी दो बच्चे हैं. रुक्मिणी पति और बच्चों को छोड़कर पूरनसिंह के साथ जबलपुर रहने चली गई थी. जब इस बात की खबर पूरनसिंह की पत्नी सम्मोबाई को लगी तो पहले उसने विरोध किया. लेकिन बाद में तीनों के बीच समझौता हो गया था और तीनों साथ में जबलपुर के अधारताल क्षेत्र में एक साथ रहने लगे थे.

लड़ाई के बाद कर दी कुल्हाड़ी से हत्या

जबलपुर में तीनों ही मजदूरी कर अपनी रोजी रोटी चला रहे थे.लेकिन लॉकडॉउन के कारण सब काम काज बंद होने के बाद तीनों को गांव लौटना पड़ा. गांव वापस आने के बाद रुक्मिणी फिर से अपने पति नरेश बर्मन के साथ रहने लगी. पुलिस पूछताछ में आरोपी सम्मोबाई ने बताया कि एक दिन दोनों जंगल में लकड़ियां बीनने गई थीं. वहीं किसी बात को लेकर उनके बीच विवाद हो गया. झगड़ा इतना ज्यादा बढ़ गया था कि रुक्मिणी ने सम्मोबाई का गला दबा दिया. जिसके बाद सम्मोबाई ने कुल्हाड़ी से रुक्मिणी के सिर पर वार कर दिया और रुक्मिणी ने मौके पर ही दम तोड़ दिया.

भाई के साथ मिलकर लगया शव ठिकाने

घटना के बाद सम्मोबाई चुपचाप घर आ गई. घर आने के बाद भी उसने इस घटना के बारे में किसी को भी कुछ नहीं बताया और रात में ही अपने मायके चली गई. मायके जाकर अपने भाई शिवकुमार को घटना के बारे में बताया. इसके बाद अगले दिन भाई-बहन वापस वारदात की जगह पहुंचे और दोनों ने शव को हल्का जंगल बंजारी माता नाले में गड्‌ढा खोदकर दफना दिया.

एसपी ने बताया कि 3 फरवरी को पुलिस को एक अज्ञात लाश मिली थी. छानबीन करने पर मामला सामने आया और शक के आधार पर सम्मोबाई से पूछताछ की गई. पहले उसने काफी झूठ बोला, लेकिन सख्ती करने पर जुर्म कबूल कर लिया. पुलिस ने सम्मोबाई और शिवकुमार को गिरफ्तार कर लिया है.

Check Also

आजादी की 75वीं वर्षगांठ: PM मोदी की अध्यक्षता वाली 259 सदस्यों की कमिटी गठित, सोनिया भी शामिल

भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ मनाने के उपलक्ष्य में भारत सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र …