पंजाब कांग्रेस की कलह विधानसभा क्षेत्र तक पहुंची:जालंधर कैंट में लगे ‘कैप्टन ही दोबारा’ के होर्डिंग, नवजोत सिद्धू के करीबी व CM पर हमलावर प्रगट सिंह यहीं से विधायक

 

जालंधर कैंट विस क्षेत्र में लगे कैप्टन अमरिंदर सिंह के समर्थन वाले होर्डिंग। - Dainik Bhaskar

जालंधर कैंट विस क्षेत्र में लगे कैप्टन अमरिंदर सिंह के समर्थन वाले होर्डिंग।

कांग्रेस में राज्य स्तर पर कलह अभी शांत नहीं हुई है और अब यह विधानसभा क्षेत्र तक पहुंच गई है। इसकी शुरूआत नवजोत सिद्धू के करीबी प्रगट सिंह के विधानसभा क्षेत्र जालंधर कैंट से हुई है। यहां पर ‘साडा सांझा नारा- कैप्टन ही दोबारा’ लिखे बड़े-बड़े होर्डिंग लगा दिए गए हैं। पिछले कुछ दिनों से विधायक प्रगट सिंह CM कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ हमलावर हुए हैं। ऐसे में इससे जिला व विधानसभा स्तर पर कांग्रेस का भीतरी माहौल गर्माने लगा है।

सेफ सीट से दावेदारी की कोशिश में राणा रंधावा

जालंधर कैंट सीट कांग्रेस की सेफ सीट मानी जाती है। करतारपुर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन राणा रंधावा यहां से विधानसभा टिकट की दावेदारी करते रहे हैं। पिछले दो बार भी उनकी जगह प्रगट सिंह को ही टिकट मिली। अब चूंकि प्रगट सिंह व CM कैप्टन अमरिंदर सिंह के करीबियों के बीच कलह चल रही है। ऐसे में रंधावा फिर जमीन तलाशने की कोशिश में हैं। इसीलिए होर्डिंग के जरिए खुद को कैप्टन का करीबी बना टिकट की दावेदारी मजबूत करने की कोशिश की जा रही है। हालांकि होर्डिंग लगवाने वाले इंप्रूवमेंट ट्रस्ट चेयरमैन राजिंदरपाल सिंह राणा रंधावा कहते हैं कि कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई में ही कांग्रेस अगले चुनाव में जीत हासिल कर सकती है। इसीलिए यह होर्डिंग लगवाए हैं।

प्रगट सिंह बोले थे- CM को अपना सर्वे कराना चाहिए

विधायक प्रगट सिंह CM के मुखर विरोधी बनकर उभरे हैं। टिकट देने से पहले चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर व उनकी टीम के जरिए विधायकों के सर्वे कराने के मुद्दे के बीच उन्होंने यहां तक कहा था कि कैप्टन अमरिंदर सिह को खुद का सर्वे करवाना चाहिए। प्रगट सिंह ने इस बात पर भी सहमति जताई थी कि अगर अगली विधानसभा चुनाव कांग्रेस ने कैप्टन की अगुवाई में लड़ी को पार्टी को नुकसान हो सकता है। इसका कैप्टन खेमे के कांग्रेसियों ने विरोध भी किया था। बाद में प्रगट ने यह कहकर कांग्रेस के भीतर हड़कंप मचा दिया था कि कैप्टन के OSD ने उन्हें धमकाया कि उनकी फाइल निकाल ली हैं, उन्हें ठोक दिया जाएगा। इसको लेकर अब स्थानीय स्तर पर नेताओं की कलह शुरू होने से वर्करों में असमंजस का माहौल बना हुआ है।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

जम्मूः 12 घंटे की बिजली कटौती और पहाड़ों पर जाने की पाबंदी, लोगों को पसंद नहीं आ रहा सरकारी आदेश

जम्मूः अगर आप हेडिंग पढ़ेंगे तो आपको लगेगा क्या यह खबर हो सकती है। पर यह …