नेता प्रतिपक्ष ने बजट को बताया झूठ का पुलिंदा:तेजस्वी का सरकार से सवाल- 20 लाख को रोजगार देने का रोड मैप क्या है?

 

ट्रैक्टर से उतरने के बाद पैदल ही विधानमंडल परिसर की ओर जाते तेजस्वी यादव। - Dainik Bhaskar

ट्रैक्टर से उतरने के बाद पैदल ही विधानमंडल परिसर की ओर जाते तेजस्वी यादव।

  • बिहार में रोजगार के लिए सरकार को लगानी होगी इंडस्ट्री
  • शिक्षा मंत्री से तेजस्वी यादव ने की इस्तीफे की मांग

बिहार विधानसभा में बजट पेश किए जाने के बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि बजट में सिर्फ घोषणाएं हैं। बजट में कोरोना काल का जिक्र किया गया है, जिसमें सरकार ने झूठ के सिवा कुछ नहीं बोला है। यह बजट नहीं, झूठ का पुलिंदा है। बिहार सरकार ने डेटा के साथ जितना फर्जीवाड़ा किया है, उतना देश में शायद ही कहीं हुआ। बजट में स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की बात कही गई है। यह तो राजद के संकल्प में था। सरकार राजगीर में इसे बनाएगी। राजगीर में जो स्टेडियम कॉम्पलेक्स बन रहा है, उसी का नाम स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी करेगी क्या? बिहार के सामने झूठ परोसा जा रहा है। जुमलेबाजी की जा रही है।

नौकरी देने के लिए क्या रोड मैप है
तेजस्वी यादव ने कहा कि सरकार 20 लाख रोजगार सृजन का दावा कर रही है। यहां तो हाल यह है कि कोर्ट के आदेश के बाद भी बिहार सरकार नौकरी नहीं देती है। उन्होंने सरकार से पूछा कि रोजगार के लिए क्या रोड मैप है। जब बिहार में इंडस्ट्री नहीं लगेंगे तो कहां से रोजगार देंगे। आईटी सेक्टर दूर की बात। पलायन रोकने का कोई प्रयास नहीं है बजट में। शिक्षा, स्वास्थ्य का क्या हाल है, देख ही रहे हैं बिहार में। तेजस्वी ने कहा कि पटना के ड्रेनेज का मैप नहीं है। कथनी और करनी में काफी फर्क है। पुलिस आधुनिकीकरण पर कोई बात नहीं है बजट में। 100 नंबर घुमाते रह जाइए। एंबुलेंस की स्थिति सबको मालूम है। पुलिस के पास अंग्रेजों के जमाने का हथियार है, जो फायर ही नहीं होता। शिक्षा मंत्री, मुख्यमंत्री को पता नहीं कि प्रश्न पत्र लीक हो रहा है। वे सब कुछ जान भी रहे हैं, फिर भी चुप हैं।

अब हिंदी का प्रश्न पत्र भी लीक हो गया
तेजस्वी ने सवाल किया कि पेपर लीक हुआ कैसे? जिम्मेवारी किसकी है। सदन में सवाल उठाने के बाद भी प्रश्न पत्र लीक हो रहा है। CBSE भी परीक्षा लेती है। उन्होंने कहा कि विधानसभा में हमने सरकार के लोगों को सूचित किया है, जो पेपर लीक हुआ उस सब्जेक्ट का कोड 101 है, हिंदी का पेपर है। यह सोमवार को परीक्षा से पहले लीक हो गया, वो भी आंसर के साथ लीक होता है। यह तो ईमानदार बच्चों के साथ अन्याय है। मुख्यमंत्री कहते हैं क ख ग घ का ज्ञान नहीं है। मुख्यमंत्री को तो व्हाट्सएप का भी ज्ञान नहीं है। हर दिन प्रश्न पत्र लीक हो रहा है। शिक्षा मंत्री का जब तक इस्तीफा नहीं लेती सरकार, तब तक सबक नहीं मिलेगी। मुख्यमंत्री शिक्षा मंत्री से इस्तीफा लें। प्रश्नपत्र और उत्तर हमारे पास पहुंचा है तो इसके दोषी हम नहीं है। सोशल साइंस की परीक्षा रद्द क्यों हुई? लीक हुआ तभी तो किया गया।

किसको डरा रही है सरकार
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का जिक्र करते हुए तेजस्वी ने कहा कि सरकार पत्रकारों को भी डरा रही है। नेता प्रतिपक्ष को भी जेल में डाल दीजिए। आपके अधिकारी विज्ञापन छाप रहे हैं, पैसा बर्बाद कर रहे हैं। विज्ञापन छाप कर डरा रहे हैं। किसी न किसी पर तो जवाबदेही तय होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि यह निकम्मी सरकार है। मंत्रियों से डिपार्टमेंट नहीं संभल रहा , बिहार बदलने का दावा कर रहे हैं। क्या यही आत्मनिर्भर बिहार है।

 

Check Also

ट्रक ने बाइक सवार 2 युवकों को कुचला:पूर्णिया में NH-107 पर तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार 2 को रौंदा, लोगों ने ट्रक में लगाई आग

  घटना के बाद लोगों ने हाइवे को जाम कर दिया और हंगामा करने लगे। …