नेताजी कर रहे सुप्रीम कोर्ट की अवमानना:बजट सत्र में 26 माननीय बिना HSRP की गाड़ियों से आए विधानमंडल, हमारे लिए रु 2500 जुर्माना

माननीय की गाड़ी में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेज नहीं लगा था। - Dainik Bhaskar

माननीय की गाड़ी में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेज नहीं लगा था।

बजट सत्र के लिए विधान मंडल पहुंचने वाले बिहार के मंत्रियों, विधायकों और विधान पार्षदों पर अगर मोटर व्हिकल (MV) एक्ट के तहत जुर्माना लगाया जाता तो 2500 रुपए के हिसाब से 26 सदस्यों पर 65000 रुपए का जुर्माना तो हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट (HSRP) नहीं लगाने का ही लग जाता। बिना HSRP की गाड़ी लेकर सड़क पर निकलना सुप्रीम कोर्ट की अवमानना है। मतलब, बजट सत्र के लिए पहुंचे इन 26 माननीयों ने सुप्रीम कोर्ट की अवमानना करते हुए MV एक्ट का भी उल्लंघन किया और कोई कार्रवाई नहीं हुई। इन 26 माननीयों में से 7 की गाड़ी पर काला शीशा भी लगा हुआ था। MV एक्ट के तहत गाड़ियों के बाहरी डिजाइन में कोई बदलाव नहीं किया जा सकता, बंपर क्रैश गार्ड भी नहीं लगा सकते। सीट बेल्ट जरूरी है। शीशे पर ब्लैक फिल्म नहीं लगा सकते। स्टाइलिश नंबर प्लेट की परमिशन भी नहीं है। बिना नंबर की गाड़ी सड़क पर नहीं निकल सकती है।

देखिए, किन्होंने-कैसे किया नियमों को तार-तार
बिहार विधानसभा की कार्यवाही में शामिल होने के लिए वही माननीय नियम तोड़ते हुए पहुंचे, जिन पर बिहार के लिए कानून बनाने की जिम्मेदारी है। जिस सदन ने शराबबंदी जैसे सख्त कानून की नजीर पेश की, वहां सोमवार को बजट पेश होने से पहले सदन पहुंचे 26 माननीय विधायक MV एक्ट (मोटर व्हीकल एक्ट) तोड़ते हुए घुसे। एक विधायक की स्कॉर्पियों में तो नंबर प्लेट ही नहीं थी। सुप्रीम कोर्ट की बार-बार सख्ती के बाद बिहार में अप्रैल 2012 से स्टाइलिश नंबर प्लेट वाली गाड़ी पर 2500 रुपए के फाइन का नियम है। हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट जरूरी है। लेकिन, सोमवार को 26 विधायकों की गाड़ियों में हाई सिक्योरिटी प्लेट नहीं दिखी।

7 गाड़ियों ब्लैक फिल्म लगी हुई दिखी
गाड़ियों पर ब्लैक फिल्म लगाना गैरकानूनी है। इसके लिए 100/2 मोटर एक्ट 177 के तहत 500 रुपए फाइन लगता है। सोमवार को ब्लैक फिल्म लगाए विधानसभा पहुंची 7 गाड़ियों पर पुलिसकर्मियों ने ध्यान ही नहीं दिया।

बंपर क्रैश गार्ड 10 गाड़ियों पर था
मोटर एक्ट 1988 के सेक्शन 190-191 के तहत किसी भी गाड़ी में क्रैश गार्ड और बुल बार नहीं लगाया जा सकता, लेकिन सोमवार को 10 माननीयों के गाड़ी पर आगे-पीछे क्रैश गार्ड लगा था। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार क्रैश गार्ड की वजह से हादसों में मौतें ज्यादा होती हैं।

नवंबर में भी दिखाई थी तस्वीर, न सरकारी जागी न जमीर जागा
पिछले साल नवंबर में भी भास्कर ने अपने डिजिटल प्लेटफॉर्म पर इस मुद्दे को लाया था। 23 नवंबर 2020 को 213 माननीय विधायक MV एक्ट (मोटर व्हीकल एक्ट) तोड़ते हुए घुसे थे। लेकिन इसके बावजूद भी अब तक न सरकार जागी और न ही नियम तोड़ने वाले माननीयों का जमीर जागा।

 

Check Also

महिला दिवस पर 3 सगी बहनों को डंपर ने रौंदा:किशनगंज में बाइक पर पत्नी और दो सालियों को लेकर जा रहा युवक भी गंभीर, डंपर चालक फरार

  घटनास्थल पर लगी लोगों की भीड़। घटना ठाकुरगंज -खारूदाह मार्ग पर निश्चितपुर गांव के …