‘निसर्ग’ तूफान का महाराष्ट्र-गुजरात पर संकट, पीएम मोदी ने उद्धव-रूपाणी से बात कर दिया हरसंभव मदद का भरोसा

कोरोना वायरस संक्रमण संकट के चलते पहले से ही बुरी तरह जूझ रहे महाराष्ट्र और गुजरात में ‘निसर्ग’ तूफान का खतरा बढ़ गया है। वहां पर मंगलवार की शाम को बारिश शुरू हो गई। ऐसा माना जा रहा है कि निसर्ग तूफान अलीबाग में बुधार को पहुंच सकता है। मुंबई पुलिस ने धारा 144 लागू लगा दी है ताकि लोगों को समुद्र के पास और अन्य तटवर्ती इलाकों में जाने से रोका जा सके। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के लोगों से अगले 2 दिनों तक अपने घरों से बाहर न जाने की अपील की है।

पीएम ने की उद्धव-रूपाणी से बात

महाराष्ट्र और गुजरात में निसर्ग तूफान के संकट के देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और गुजरात के सीएम विजय रूपाणी से बात कर उन्हें हरसंभव मदद देने का आश्वसन दिया है। इसके साथ ही पीएम मोदी ने दमन दीव, दादर और नगर हवेली के प्रशासक प्रफूल कुमार पटेल से भी चक्रवात तूफान की स्थिति पर चर्चा की।

 

 

उद्धव ने कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री ने ममद का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि इस बारे में पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से बात हुई है। ठाकरे ने टेलीविजन पर दिए संबोधन में लोगों से कहा कि बुधवार की दोपहर तक तूफान के राज्य के तटीय क्षेत्रों में आने की आशंका है, इसलिए सतर्क रहें। उन्होंने इस स्थिति में ‘क्या करें और क्या नहीं करें की सूची भी लोगों के साथ साझा की।

उन्होंने कहा, ”राज्य में अभी तक जितने चक्रवात आए हैं उससे यह कहीं ज्यादा विकराल हो सकता है…कल और उसके बाद का दिन तटीय इलाकों के लिए महत्वपूर्ण है।” ठाकरे ने कहा, ”चक्रवात को देखते हुए अगले दो दिनों तक वे सारी गतिविधियां बंद रहेंगी जिन्हें फिर से शुरू करने की अनुमति दी गई थी (कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन के बाद दी गई ढील के तहत)…लोगों को सतर्क रहना चाहिए।

 

‘निसर्ग तूफान के मद्देनजर महाराष्ट्र और गुजरात में 33 टीमें तैनात 

महाराष्ट्र और गुजरात की ओर बढ़ रहे तूफान ‘निसर्ग के मद्देनजर एनडीआरएफ ने दोनों राज्यों के तटीय जिलों में अपनी 33 टीमें तैनात की हैं। यह जानकारी बल के प्रमुख ने मंगलवार को दी। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के महानिदेशक एस एन प्रधान ने एक वीडियो संदेश में बताया, ”गुजरात और महाराष्ट्र” में बल की क्रमश: 11 और 10 टीमें हैं और उन्हें तटीय जिलों में तैनात किया गया है।

उन्होंने बताया कि गुजरात के अनुरोध पर पंजाब से और पांच टीमों को विमान के जरिए पहुंचाया जा रहा है। प्रधान ने बताया कि गुजरात में एनडीआरएफ की कुल 17 टीमें होंगी जिनमें दो टीमों को रिजर्व रखा गया है जबकि पड़ोसी महाराष्ट्र में छह रिजर्व टीमों सहित बल की 16 टीमें होंगी। उन्होंने कहा, ”इसके साथ ही इन दोनों राज्यों में कुल 33 टीमों को तैनात किया जा रहा है।”

 

 

उल्लेखनीय है कि एनडीआरएफ की एक टीम में करीब 45 जवान होते हैं और वे पेड़ तथा खंभे काटने की मशीन, संचार उपकरण, छोटी नौकाओं और मूलभूत चिकित्सा शाखा से लैस होती है। प्रधान ने कहा कि टीमों ने जमीन पर काम शुरू कर दिया है और वे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने और स्थानीय लोगों में जागरूकता पैदा करने में लगी हैं।

उन्होंने कहा, ”हालांकि, यह प्रचंड चक्रवाती तूफान नहीं है, लेकिन सभी मूलभूत तथ्यों को ध्यान में रखकर सभी एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं। हम बेहतर होने की उम्मीद कर रहे हैं लेकिन हमें सबसे बुरे हालात के लिए भी तैयार रहना चाहिए।  चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग के बुधवार को गुजरात और महाराष्ट्र के तट से टकराने का अनुमान है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि तूफान के तीन जून को दक्षिण गुजरात और उत्तरी महाराष्ट्र के तट से होकर गुजरने का अनुमान है। आईएमडी ने बताया कि जब तूफान तीन जून की शाम तट से गुजरेगा, उस समय 105 से 110 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। दक्षिण गुजरात और तटीय महाराष्ट्र में भारी वर्षा होने का भी अनुमान है।

Check Also

हथेली पर यहां होती हैं मणिबंध रेखाएं, इसे देखकर भी जान सकते हैं उम्र और किस्मत से जुड़ी खास बातें

उज्जैन. हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार मणिबंध देखकर व्यक्ति की संभावित उम्र भी मालूम की जा सकती …