नवरात्र में भूलकर भी ना करें ये 7 काम, मां दुर्गा के प्रकोप का करना पड़ सकता है सामना

शारदीय नवरात्र की शुरुआत हो चुकी है। 17 अक्टूबर से लेकर 24 अक्टूबर तक देशभर में मां दुर्गा की नौ स्वरूपों की उपासना की जाएगी। इन दिनों मां अपने भक्तों की हर इच्छा की पूरी करती है। तो वहीं, भक्त भी मां को प्रसन्न करने के कोई कसर नहीं छोड़ते। भक्त इन नौ दिनों में मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते है। साथ ही कई इन दिनों कई सख्त नियमों का पालन भी करते है। जिसके बारे में हम आपको बताते है क्योंकि अगर इन दिनों का पालन ना किया जाए। तो आपको कई भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

नवरात्रि के नौ दिन काफी शुद्ध और पावन होते है। इन नौ दिनों तक सात्विक भोजन करना चाहिए।प्याजयानी की नॉन वेज के साथ-साथ प्यार और लहसुन से भी दूरी बना लेनी चाहिए।

इन नौ दिनों तक जो भी व्यक्ति व्रत रखते है। उन्हें अनाज और नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। Vrat-ka-khana इन दिनों तक आप खाने में कुट्टू का आटा, समारी के चावल, सिंघाड़े का आटा, साबूदाना, सेंधा नमक, फल, आलू, मेवे, मूंगफली खा सकते हैं।

जिन लोगों ने नवरात्रि में नौ दिनों का व्रत रखा है। उन्हें काले रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए।काले इस दिनो सिलाई-कढ़ाई का काम भी नहीं करना चाहिए। इस काम में नुकीली चीजों का इस्तेमाल होता है। जिसका इस्तेमाल वर्जित है।

नवरात्र में जो लोग व्रत रखते है। उन्हें बेल्ट, पर्स, चप्पल-जूते, बैग जैसी चमड़े की चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।पर्समंदिर में प्रवेश के दौरान इन चीजों को घर ही छोड़कर जाए या मंदिर के बाहर ही उतार दें।

नवरात्र के दिनों में कई लोग अपने घर में कलश की स्थापना करते है, माता की चौकी का आयोजन करते है या फिर अखंड ज्योत भी जलाते है। अगर आप ऐसा कर रहे है तो अपने घर को कभी भी खाली मत छोड़िए।चौकीपूजा के घर के बिल्कुल साफ रखिए। दीपक जलाए कभी भी शक्ति की पूजा नहीं की जा सकती है।

विष्णु पुराण के अनुसार, नवरात्रि में दिन के समय कभी भी नहीं सोना चाहिए।सोनासाथ ही मन में आने वाले बुरे ख्याल भी नहीं आने चाहिए। ना ही इन दिनों किसी को अपशब्द कहने चाहिए।

नवरात्र के दौरान नाखून और बाल काटना वर्जित है।kइसलिए नवरात्र शुरू होने से पहले ही नाखून को काट लेना चाहिए।

Check Also

अगर आपके भी हथेली पर बनता है आधा चाँद तो जान ले ये बाते वरना…

कहा जाता है की इंसान की किस्मत उसके हांथो में होती है। और कुछ विद्वानों …