नकारात्मक विचारों को अपने मन से कैसे दूर करें, जानिए

जीवन में किसी से लड़ाई या बहस हो जाने से हमारा दिमाग मूव ऑन नहीं कर पाता है जिसकी वजह से दिमाग में वहीं ख्याल आते रहते हैं जिनकी वजह से गुस्सा, दुख आता है और आप नकारात्मक ख्यालों से घिरे रहते हैं। यह नकारात्मक विचार चिंता और डिप्रेशन में भी बदल सकते हैं। नकारात्मक विचार आपको सकारात्मक नहीं होने देते हैं। जिसकी वजह से आप किसी भी काम को सही तरीके से नहीं कर पाते हैं। दिमाग से यह विचार जितना जल्दी निकल जाएं उतना ही बेहतर होता है। नकारात्मक विचारों को कुछ आसान चीजों की मदद से दूर किया जा सकता है। तो आइए आपको कुछ काम बताते हैं जो नकारात्मक विचारों को दूर करने में मदद करेंगे।

 

 

 

अपनी इमेजिनेशन का इस्तेमाल करें:

जब हम कुछ कल्पना करते हैं और कुछ रियल में महसूस करता है तो दिमाग का एक ही हिस्सा सक्रिय होता है। नकारात्मकता को दूर करने के लिए आप कुछ सकारात्मक चीजों की कल्पना कर सकते हैं। इससे तुरंत जीवन में बदलाव नहीं आता है लेकिन कल्पना की प्रक्रिया से रियल लाइफ में जरुर बदलाव लाया जा सकता है। अगर आप नकारात्मकता दूर नहीं पर पा रहे हैं तो सकारात्मक बातों के बारे में सोचें।

 

गहरी सांसें लें:

तनाव और चिंता की वजह से दिमाग का एमिगडला भाग सक्रिय हो जाता है जिसकी वजह से प्रिफ्रंटल कॉर्टेक्स ब्लॉक हो जाती है और निर्णय लेने में दिक्क्त होती है। एमिगडला को गहरी सांसों की मदद से ठीक किया जा सकता है। इसलिए नकारात्मक विचारों को दूर करने के लिए धीरे-धीरे और गहरी सांस लें। ऐसा करने से आपको काफी अच्छा महसूस होगा।

आभार जताना सीखें:

जल्दी से जल्दी अच्छा महसूस करने के लिए आपको चीजों का आभार जताने का अभ्यास करना शुरु करना चाहिए। किसी का आपके लिए कुछ करने पर आभार व्यक्त करने से सामने वाले को भी अच्छा लगेगा और आपको भी। इससे नकारात्मक भावनाएं दूर होती हैं।

लोगों से बात करें:

नकारात्मक विचारों को दिमाग से दूर रखने से आपको बहुत दिक्कत आने लगती है। इसलिए अपने किसी खास के साथ बात करें। इससे आपके दिमाग से सारे नकारात्मक विचार दूर हो जाएंगे।

चीजों को बदलें:

दिमाग थोड़ा सा अजीब होता है जिसकी वजह से एक ही तरह के विचार दिमाग में आते रहते हैं। इन विचारों को जीवन में कई अभ्यास करके बदला जा सकता है। हर बार जब भी आप कुछ सोचें जिससे आपको बुरा लग रहा हो तो उसे किसी चीज से बदल लें। इससे नकारात्मक विचार दूर होने की प्रक्रिया शुरु हो जाएगी।

Check Also

2000 से पहले पैदा हुए लोग ही समझ सकते हैं इन बातों को

साल 2000 से पहले यानि 90’s के दौर ही बात ही कुछ और थी। उस …