नई सरकार का पहला बजट LIVE:तारकिशोर पहली बार पेश करेंगे बजट, विधानसभा के गेट पर वाम दलों के विधायकों ने किया प्रदर्शन

 

  • विधानमंडल की कार्यवाही 11 बजे से शुरू होगी
  • 2:00 बजे होगा वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट पेश

बिहार विधानमंडल की कार्यवाही अब से कुछ ही देर में शुरू होगी। इसमें नवनिर्मित बिहार सरकार अपने इस कार्यकाल का पहला बजट पेश करेगी। वित्त मंत्री के रूप में डिप्टी CM तार किशोर प्रसाद अपना पहला बजट (वित्तीय वर्ष 2021-22) पेश करेंगे। बजट का आकार क्या होगा, जनता को कितनी राहत मिलेगी और उसकी जेब पर कितना असर पड़ेगा इन सब बातों पर बिहार वासियों की नजर होगी। शिक्षा, उद्योग, स्वास्थ्य, पर्यटन और आधारभूत संरचना क्षेत्र को क्या मिलेगा, इस पर नजर रहेगी। बजट पर सत्ता पक्ष को घेरने के लिए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पूरी तैयारी के साथ अपने आवास से निकल रहे हैं।

सदन की कार्यवाही 11 बजे से शुरू होगी। सबसे पहले प्रश्नोत्तर काल होगा। इसमें अल्पसूचित और ताराकिंत प्रश्न पूछे जाएंगे और सत्ता पक्ष के संबंधित सदस्य द्वारा उसके उत्तर दिए जाएंगे। इसके बाद सुदामा प्रसाद, महबूब आलम और अन्य 11 सभासदों प्राप्त ध्यानाकर्षण सूचना व उसपर सरकार की ओर से वक्तव्य दिए जाएंगे। बिहार विधानसभा के समितियों के प्रतिवेदन सभा के समक्ष रखा जाएगा।

पिछले साल का बजट 2 लाख 11 हजार 761 करोड़ का था

दोपहर 2:00 बजे से डिप्टी CM सह वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद अपना पहला बजट सदन में पेश करेंगे। कोरोना महामारी के दौर में आर्थिक चुनौतियों को देखते हुए माना जा रहा है कि इस बार राज्य सरकार का बजट का आकार पहले जैसा ही होगा। बीते साल यह 2 लाख 11 हजार 761 करोड़ रुपए का था। इस बार का बजट भी इसी के आसपास रहने की उम्मीद जताई जा रही है।आज भी बजट सत्र के हंगामेदार रहने की संभावना है। कानून व्यवस्था और शिक्षा पर विपक्ष लगातार सत्ता पक्ष को घेर रहा है। मैट्रिक परीक्षा के प्रश्न पत्र लीक होने पर विपक्ष आक्रामक रुख अपनाए हुए है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव सोशल मीडिया पर लगातार सरकार पर निशाना साध रहे हैं। पेट्रोल और गैस की बढ़ती कीमतों को लेकर भी सदन में हंगामा होने के आसार हैं।

आर्थिक सर्वेक्षण में दिखी थी चुनौतियां

कोरोना काल में पेश हो रहे बजट को लेकर बिहार सरकार के सामने कई चुनौतियां है। सरकार के सामने आर्थिक संतुलन को बनाए रखने की चुनौती होगी। कोरोना की वजह से चरमराई वित्तीय व्यवस्था को लेकर बिहार सरकार लगातार चिंतित है। माना जाता है कि आर्थिक सर्वेक्षण में जो परिणाम आए होते है, उसी के मुताबिक राज्य का बजट पेश किया जाता है। बजट सत्र के पहले दिन आर्थिक सर्वेक्षण में पिछले साल की झलक दिखी थी। माना जा रहा है कि इसी अनुरुप बजट भी होगा। हालांकि सरकार ने भरोसा दिलाया है कि इस बार का बजट आमजन के लिए होगा।

 

Check Also

‘फांसी’ के खेल में मासूम की जान गई:कुंडी से लटकते कपड़े को गले में लपेट भाई-बहन को दिखा रही थी ऐसे लगाते हैं ‘फांसी’, कस गया फंदा

  छत की कुंडी से लटकते इसी कपड़े से झूल रही थी साक्षी। भागलपुर के …