नई ओटीएस स्कीम:हिंदू बैंक ने शुरू की ओटीएस स्कीम, मूलधन का 30% जमा कराना जरूरी

सीईओ अमन मेहता। - Dainik Bhaskar

सीईओ अमन मेहता।

  • 80 हजार से अधिक खाताधारक, 170 डिफाल्टरों पर 61 करोड़ रुपए बकाया, रिकवरी स्कीम के बावजूद नहीं किया भुगतान

80 हजार से अधिक खाताधारकों और 13 हजार शेयर होल्डर्स वाले हिंदू कोआपरेटिव बैंक को एनपीए निकालकर अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए सरकार ने बैंक डिफाल्टर्स के लिए नई ओटीएस (वन टाईम सैटलमेंट) स्कीम शुरू की है। डिफाल्टर्स इस योजना का लाभ 31 मार्च तक उठा सकेंगे और इस स्कीम में जुड़ने के लिए लोन को मूलधन (प्रिंसिपल एमाउंट) का 30 फीसदी पहले जमा कराना होगा।गैरतलब है कि हिंदू कोऑपरेटिव बैंक का एनपीए 80 करोड़ रुपये से अधिक चले जाने पर रिजर्व बैंक आफ इंडिया ने बैंक पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए थे और बोर्ड आफ डाइरेक्टर्स भंग कर दिया गया था।

बैंक के 170 डिफाल्टर्स हैं जो बैंक का 61 करोड़ रुपये से अधिक दबाए बैठे हैं और बैंक द्वारा चलाई गई कई रिकवरी स्कीम के बावजूद उन्होंने अपने कर्ज का भुगतान नहीं किया है जिस कारण शहर का सबसे बड़ा बैंक बंद होने की कगार पर पहुंच गया था। बैंक के एडमिनिस्ट्रेटर डिप्टी कमिश्नर संयम अग्रवाल और सीईओ अमन मेहता के नेतृत्व में बैंक प्रबंधन ने बड़े बकाएदारों के खिलाफ अभियान चलाए और उनकी संपत्ती की नीलामी भी कराई गई जिसके बाद बैंक का घाटा 55.5 करोड़ से घटकर 32 करोड़ तक रह गया है।

छोटे डिफाल्टर्स कर्ज की राशि का दोगुना भुगतान कर ओटीएस स्कीम का उठा सकते हैं फायदा- बैंक के सीईओ अमन मेहता ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि सरकार ने बैंक को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए वन टाईम सेटलमेंट (ओटीएस) स्कीम शुरू की है जिसके मुताबिक बड़े डिफाल्टर 31 मार्च कर ओटीएस के लिए एप्लाई कर सकते हैं। ओटीएस को पिछली स्कीमों के मुकाबले अधिक असरदार बनाया गया है। डिफाल्टर्स को आवेदन के समय कर्ज के प्रिंसिपल एमाउंट का 30 फीसदी जमा करना होगा। डिफाल्टर को एनपीए होने की तिथि से 8.5 फीसदी ब्याज अदा करना होगा।

इसके अलावा जो सेटलमेंट एमाउंट बनेगा उसे 30 जून 2021 तक तीन इंस्टालमेंट में जमा कराना होगा। आवेदन के साथ जमा कराई गई 30 फीसदी धनराशि सेटलमेंट धनराशि में एडजस्ट की जाएगी। अमन मेहता ने बताया कि छोटे डिफाल्टर्स ओटीएस के फार्मूले के मुताबिक या फिर कर्ज की धनराशि का दोगुना भुगतान कर स्कीम का फायदा उठा सकेंगे।

विवाह और अन्य जरूरी कामों के लिए मिली छूट, 6 हजार लोगों को होगा फायदा- खाताधारकों के भुगतान पर लगी रोक को बैंक टीम के रिकमंडेशन पर विवाह व अन्य जरूरी कामों के लिए छूट दी गई जिसमें 6 हजार लोगों को फायदा दिया गया है। इस मौके पर बैंक अधिकारी राजीव सिंह, राजीव महिंद्रू, राजीव मनकोटिया, राजीव महाजन मौजूद थे।

 

Check Also

देश में 2014 से मेडिकल पीजी की 24 हजार सीटें बढ़ीं : पीएम मोदी

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु की डॉ. एमजीआर मेडिकल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह …