दो दिन पहले कंपनी से निकाला:दुबई में फंसे दो मजदूर होटलों के बचे और फेंके भाेजन पर जिंदा, पत्नियाें ने लगाई वापसी की गुहार

 

दुबई में फंसे घाघरा के दो मजदूर भूखे प्यासे सड़क पर भटक रहे है। घाघरा प्रखंड के डूको ग्राम निवासी अजय उरांव और नवडीहा बरटोली ग्राम निवासी सुनील भगत 28 जनवरी को महुआ टोली ग्राम निवासी दयालु उरांव नामक एजेंट के साथ दुबई काम करने के लिए गया था। जहां जाने के बाद कुछ दिन काम किया, जिसके बाद से दोनों को काम से निकाल दिया गया।

2 दिन पूर्व खाना पीना बंद कर कंपनी परिसर से भी बाहर निकाल दिया गया। उन लोगों के पास दुबई का सिम नहीं है जिस कारण से वे दाेनाें परिजनाें से बात भी नहीं कर पा रहे है। बड़ी मुश्किल से किसी दूसरे व्यक्ति के फोन से उसने घर वाले को अपनी परेशानी बताई, जिसके बाद से अजय की पत्नी केवड़ा उरांव, सुनील की पत्नी फुलयारी देवी व भउवा पहान घाघरा थाना पहुंचे। पुलिस काे पूरी जानकारी देते हुए दाेनाें काे दुबई से वापस गांव तक लाने की गुहार लगाई। इस संबंध में अजय की पत्नी केवरा ने बताया कि उसके पति से एक बार बात हुई।

पति को वापस अपने देश लाने का आग्रह किया

ज्ञात हो कि दोनों मजदूर का वीजा टूरिस्ट वीजा है जो महज एक महीना के अंदर एक्सपायर कर गया, जिसके बाद से उन्हें काम से निकाल दिया गया है। साथ ही प्रत्येक दिन दोनों मजदूर से 300 दिरहम फाइन भी लिया जाएगा। यहां बता दें कि दुबई में अलकोज थ्री नामक जगह पर दोनों मजदूर काम करने के लिए गए थे। इस संबंध में बहुत सारी जानकारियां नहीं मिल पाई।

क्योंकि मजदूरों से सिर्फ दो बार ही बात हो सकी है और उन लोगों को भी पूरी जानकारी नहीं है। मजदूर की पत्नी ने फूट-फूटकर रोते हुए अपने पति को वापस अपने देश वापस बुलाने की गुहार लगाई है।

 

Check Also

नदी के किनारे गिरने से युवक की मौत:बालू लोड ट्रैक्टर समेत पुल से 20 फीट नीचे गिरा युवक, लोगों को सुबह मिली हादसे की सूचना

बालू और ट्रैक्टर के नीचे दबी लाश को बाहर निकालते लोग। परिजनों ने बताया कि …