दिल्ली से जयपुर के बीच शुरू होगी Hydrogen फ्यूल बस सर्विस, जानें क्या होगी इसकी खासियत

पूर्ण EV सपोर्टिंग इन्फ्रा की स्थापना के अलावा देश में अब तेजी से ग्रीन मोबिलिटी भी आगे बढ़ रही है. भारत सरकार अब बाहरी ईंधन पर निर्भरता को कम करने के लिए वैकल्पिक ईंधन की दिशा में अधिक विकल्पों की योजना बना रही है. जबकि इलेक्ट्रिक कारों और टैक्सियों को सरकार द्वारा भारी बढ़ावा दिया गया है, अब यह हाइड्रोजन ईंधन बसों पर अध्ययन भी कर रही है.

भारत का सबसे बड़ा ऊर्जा समूह, एनटीपीसी लिमिटेड (नेशनल थर्मल पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड) दिल्ली से जयपुर मार्ग पर एक प्रीमियम हाइड्रोजन ईंधन बस सेवा शुरू करने की योजना बना रहा है. रिकॉर्ड के लिए, यह भारत में पहली एफसीईवी बस सेवा होने जा रही है जिसका उपयोग इंटरसिटी आवागमन के लिए किया जाएगा. हालाँकि, सेवा कब शुरू की जाएगी, इसके लिए फिलहाल कोई टाइमलाइन नहीं दी गई है. इससे पहले, मुंबई जैसे मेट्रो शहरों में इसी तरह की बस सेवाओं का टेस्ट किया गया था.

एक शहर से दूसरे शहर जाने के लिए होगी सर्विस

इंटरसिटी आवागमन के लिए ईंधन सेल बसों का टेस्ट करने के लिए नई सेवा एक पायलट परियोजना बनने जा रही है. यह पारंपरिक आईसीई बस सेवा के खिलाफ ईंधन सेल बसों की लागत क्या आती है ये इसके बारे में भी जानकारी देगी.
दिल्ली में ‘गो इलेक्ट्रिक’ अभियान के शुभारंभ पर पावर मंत्री आरकेसिंह ने कहा, “हम दिल्ली से जयपुर के लिए प्रीमियम हाइड्रोजन फ्यूल बस सेवा शुरू करने की योजना बना रहे हैं और धीरे-धीरे हम उसी रूट पर इलेक्ट्रिक बस चलाने का भी प्रयास करेंगे.”

उसी इवेंट में, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी द्वारा एक नए इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर की घोषणा की गई थी. गडकरी ने शुक्रवार को ‘गो इलेक्ट्रिक’ अभियान के शुभारंभ पर कहा, “मैं अगले 15 दिनों में एक इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर लॉन्च करूंगा.” इसके अलावा, सरकार महाराष्ट्र में 40,000 बैटरी चालित बसों की खरीद करने की कोशिश कर रही है.

Check Also

महाकाल मंदिर में शिव नवरात्रि:दूसरे दिन बाबा को धारण कराया वासुकी नाग, कल घटाटोप स्वरूप में देंगे दर्शन

शिव नवरात्रि में महाकाल मंदिर में बाबा महाकाल को संध्या श्रृंगार में नाग धारण कराया …