तेलंगाना: रास्ते से जर्नलिस्ट को उठा ले गई पुलिस, विपक्ष ने पूछा- ‘गिरफ्तारी है या अपहरण?

 

हैदराबाद में एक पत्रकार को गिरफ्तार किए जाने का एक सीसीटीवी फुटेज वायरल हो रहा है. पत्रकार संघों और विपक्षी दलो ने आरोप लगाया है कि सिविल ड्रेस में पुलिसकर्मियों ने पत्रकार के साथ दुर्व्यवहार किया और उसे दिनदहाड़े जबरन उठा ले गए. वायरल वीडियो में पत्रकार की पहचान रघु रामकृष्ण के रूप में हुई है. सूर्यापेट जिले के पुलिस अधीक्षक आर भास्करन ने कहा कि रघु को मट्टमपल्ली पुलिस स्टेशन में क्राइम नंबर 20/21 के लिए गिरफ्तार किया गया. हमें पता है कि रघु की पत्नी ने हाईकोर्ट में अपील की है. हम कानूनी रूप से जो भी जरूरी होगा कार्रवाई करेंगे और उसे हाईकोर्ट के सामने पेश करेंगे.

तेलंगाना विधायक दानसारी अनसूया ने ऑफिशियल सोशल मीडिया हैंडल पर सीसीटीवी की एक शॉर्ट फुटेज शेयर की, जिसमें जर्नलिस्ट सड़क पर खरीददारी कर रहा था. तभी वहां अचानक सिविल ड्रेस में दो शख्स आते हैं. कुछ सेकेंड के लिए वो रघु के पीछे खड़े होते हैं और उसे जबरन पकड़कर पीछे खड़ी एक सफेद कार की तरफ ले जाते हैं. ये कोई पुलिस की गाड़ी नहीं प्राइवेट कार है.

मामले में होगा एक्शन

पत्रकार रघु के साथ अभद्र व्यवहार और जबरदस्ती करने वाले पुलिसकर्मियों के बारे में पूछे जाने पर एसपी ने कहा कि इस मामले में आवश्यक कार्रवाई की जाएगी. पत्रकार रघु की गिरफ्तारी के वायरल वीडियो को लेकर स्थानीय लोगों में कड़ी प्रतिक्रिया और आक्रोश है. क्षेत्र के पत्रकार संघों और राजनीतिक दलों ने गिरफ्तारी की निंदा की और राज्य सरकार के इस कदम पर अपना गुस्सा जाहिर किया.

अपहरण है या गिरफ्तारी?

अनसूया ने 8 जून को सीसीटीवी फुटेज के साथ ट्वीट करते हुए लिखा यह अपहरण है या गिरफ्तारी? अगर आप आवाज उठाते हैं तो तेलंगाना सरकार आपके साथ इस तरह का व्यवहार करती है. वहीं इस बीच तेलंगाना हाईकोर्ट ने इस मामले में राज्य के महानिदेशक को रघु के मामले में 14 जून या उससे पहले डिटेल जमा करने को कहा है.

Check Also

कोरबा पुलिस की ‘नीली बत्ती’ का सुरूर:अफसर को रायपुर छोड़कर लौटते तो खुद बन जाते पुलिस वाले; ट्रैक्टर चालक से लूटे रुपए और मोबाइल तो जांजगीर में पकड़े गए

आरोपियों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि जब्त की गई कोरबा पुलिस की ओर …