डब्ल्यूएचओ बोला- युवा और स्वस्थ लोगों को 2022 से पहले कोरोना वैक्सीन नहीं मिल सकती; अब तक 3.90 करोड़ केस

 

फोटो पेरिस की है। यहां कोरोना संकट के दौरान लोगों की मदद करने वाले मेडिकल वर्कर्स का प्रदर्शन शुरू हो गया है। प्रदर्शनकारियों ने सैलरी बढ़ाने समेत कई मांग की।

  • दुनिया में 11 लाख से ज्यादा लोगों की मौत, 2.92 करोड़ से ज्यादा लोग अब स्वस्थ
  • अमेरिका में 82 लाख लोग संक्रमित, 2.22 लाख से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि 2022 तक दुनिया के युवाओं और स्वस्थ लोगों को कोविड-19 की वैक्सीन नहीं मिल सकती है। ऐसे लोगों को तब तक इंतजार करना होगा। डब्ल्यूएचओ के चीफ साइंटिस्ट सौम्य स्वामीनाथन ने गुरुवार को इसके बारे में जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि 2021 तक कम से कम एक इफेक्टिव वैक्सीन मिलने की उम्मीद है। हालांकि, यह सीमित संख्या में होगी। इसलिए केवल उन्हीं लोगों तक पहुंच सकती है जिन्हें इसकी ज्यादा जरूरत होगी। इसमें स्वास्थ्यकर्मी और हाई रिस्क वाले लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी।

इस बीच, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने बुधवार को माना कि देश में संक्रमण की वजह से हालात गंभीर हो चुके हैं। सरकार सख्त कदम उठाने की तैयारी कर रही है। दूसरी तरफ, पेरिस में कर्फ्यू लगा दिया गया है। फ्रांस सरकार ने इस बारे में पहले ही आगाह कर दिया था।

मरीजों का आंकड़ा 3.88 करोड़ से ज्यादा

दुनिया में संक्रमितों का आंकड़ा 3.90 करोड़ से ज्यादा हो गया है। ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 2 करोड़ 92 लाख से ज्यादा हो चुकी है। मरने वालों का आंकड़ा 11 लाख के पार हो चुका है। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

इन 10 देशों में कोरोना का असर सबसे ज्यादा

देश संक्रमित मौतें ठीक हुए
अमेरिका 8,203,125 222,563 5,305,355
भारत 7,365,435 112,144 6,448,545
ब्राजील 5,148,345 151,971 4,568,813
रूस 13,40,409 23,205 10,39,705
स्पेन 9,37,311 33,413 उपलब्ध नहीं
अर्जेंटीना 9,31,967 24,921 7,51,146
कोलंबिया 9,30,159 28,306 8,16,667
पेरू 8,56,951 33,512 7,59,597
मैक्सिको 8,29,396 84,898 6,03,827
फ्रांस 7,79,063 33,037 1,03,413

जर्मनी : स्थिति गंभीर

जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने बुधवार रात साफ कर दिया कि देश में संक्रमण की दूसरी लहर की वजह से स्थिति गंभीर हो गई है। मर्केल ने एक बयान में कहा- इसमें कोई दो राय नहीं कि हम महामारी के दौर में है और स्थिति अब गंभीर हो चुकी है। हम चाहते हैं कि संक्रमितों का पता लगाकर उनका इलाज किया जा सके। देश के सभी संबंधित हेल्थ ऑर्गनाइजेशन इस काम में साथ दे रहे हैं। हर रोज मामले बढ़ रहे हैं। इकोनॉमी की फिक्र है, इसलिए दूसरा लॉकडाउन नहीं लगा सकते, जैसा दूसरे यूरोपीय देश कर रहे हैं।

बुधवार रात जर्मनी के बर्लिन शहर की एक सूनी सड़क से गुजरती लड़की। जर्मनी में बुधवार को 5,132 नए मामले सामने आए। चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा- इकोनॉंमी तबाह न हो, इसलिए हम यूरोप के दूसरे देशों की तरह लॉकडाउन नहीं कर सकते।

बुधवार रात जर्मनी के बर्लिन शहर की एक सूनी सड़क से गुजरती लड़की। जर्मनी में बुधवार को 5,132 नए मामले सामने आए। चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा- इकोनॉंमी तबाह न हो, इसलिए हम यूरोप के दूसरे देशों की तरह लॉकडाउन नहीं कर सकते।

फ्रांस : पेरिस समेत 8 शहरों में कर्फ्यू
फ्रांस सरकार ने देश में फिर से हेल्थ इमरजेंसी का ऐलान कर दिया है। बुधवार को यहां 22 हजार 950 नए मामले सामने आए। इसके बाद प्रधानमंत्री एमैनुएल मैक्रों सामने आए। उन्होंने कहा- हम फिर से हेल्थ इमरजेंसी लगा रहे हैं।

पेरिस समेत देश के 9 शहरों में रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू रहेगा यानी लोग घर से बाहर नहीं निकल सकेंगे। मैक्रों ने साफ कर दिया कि सरकार विरोध की परवाह किए बिना सख्त कदम उठाएगी। माना जा रहा है कि कर्फ्यू करीब चार हफ्ते रहेगा। मार्सले शहर के मेयर ने कहा- हालात फिक्रमंद करने वाले हैं, लेकिन काबू से बाहर नहीं हैं। फ्रांस की हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक, तीन हफ्ते में यहां तीन लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। देश के 32% आईसीयू बेड्स इस वक्त फुल हैं। इन सभी में कोविड-19 के मरीज हैं।

अमेरिका: राष्ट्रपति ट्रम्प के बेटे बेरॉन भी संक्रमित हुए थे

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के 14 साल के बेटे बेरॉन ट्रम्प को भी कोरोना हुआ था, लेकिन अब वे ठीक है। बेरॉन अपनी मां और पिता के पॉजिटिव पाए जाने के बाद संक्रमित मिले थे। हालांकि उनमें इसके कोई लक्षण नहीं आए थे। बाद में अपनी मां के साथ दोबारा टेस्ट कराने पर उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई।

ट्रम्प की पत्नी मेलानिया ट्रम्प ने बुधवार को इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा- वह एक मजबूत टीन एजर है, उसमें कोई लक्षण सामने नहीं आए। वहीं, ट्रम्प ने आयोवा के रैली में इसका जिक्र किया। अमेरिका में अब तक 81 लाख 50 हजार 43 मामले सामने आए हैं और 2.21 लाख से ज्यादा मौतें हुईं हैं।

ब्राजील : तीसरे चरण का ट्रायल रद्द
अमेरिकी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ने ब्राजील में भी अपना वैक्सीन ट्रायल फिलहाल रोक दिया है। ब्राजीलियन हेल्थ एजेंसी ने मंगलवार रात जारी एक बयान में कहा- इस बारे में ज्यादा जानकारी फिलहाल नहीं दी जा सकती। लेकिन, फिलहाल वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल रोके जा रहे हैं। कुछ खबरों में कहा गया है कि अमेरिका में एक वॉलेंटियर के वैक्सीन ट्रायल के बाद गंभीर रूप से बीमार होने के बाद यह ट्रायल रोके गए हैं। ब्राजील में दो कंपनियों के वैक्सीन ट्रायल किए जा रहे हैं। जॉनसन एंड जॉनसन उनमें से एक है।

 

Check Also

भारतवंशी डॉ. दिनेश पटेल को उटाह गवर्नर के लाइफ टाइम अचीवमेंट मेडल से किया गया सम्मानित

वाशिंगटन : प्रख्यात भारतवंशी उद्यमी डॉ. दिनेश पटेल को जैव प्रौद्योगिकी और दवा क्षेत्र में …