ट्रैफिक जाम की समस्या:शहर जाम, बालूगंज में तवी माेड़ ताे कैनेडी चाैक पर राेज कतारें, विक्ट्री टनल, छोटा शिमला, संजौली में भी यही हाल

 

बालूगंज के जंगल में मंगलवार सुबह के समय लगा ट्रैफिक जाम। - Dainik Bhaskar

बालूगंज के जंगल में मंगलवार सुबह के समय लगा ट्रैफिक जाम।

राजधानी में ट्रैफिक जाम आम हो गया है। शहर के बालूगंज में तवी मोड़, कैनेडी चौक पर रोज लंबी लाइनें लग रही हैं। वहीं विक्ट्री टनल, छोटा शिमला, संजौली में भी ट्रैफिक जाम लगातार लग रहा है। मंगलवार को भी इन जगहों पर भारी ट्रैफिक जाम लगा।

इस जाम में काफी समय तक लोग फंसे रहे। शहर के बालूगंज एरिया में रोजाना ट्रैफिक जाम लग रहा है। मंगलवार को भी तवीमोड़ से लेकर बालूगंज तक गाड़ियों की लंबी लाइनें लगी रहीं। यहां काफी समय तक ट्रैफिक जाम लगा।विधानसभा के पास कैनेडी चौक पर भी रोजाना जाम लग रहा है। यहां चारों ओर सड़कें जाती हैं और ऐसे में यहां सुबह-सुबह भारी जाम लग रहा है।

इसी तरह आगे विक्ट्री टनल के आसपास भी जाम लगना आम बात हो गई हैं। सुबह के समय छोटा शिमला के पास भारी ट्रैफिक जाम लग रहा है। यहां पेट्रोल पंप से ट्रैफिक जाम लगना शुरू हो गया और गाड़ियों की लाइनें आगे नॉलज वुड तक पहुंच गईं। छोटा शिमला में ट्रैफिक जाम की एक बड़ी वजह यहां पर कसुम्पटी की ओर से आने वाली गाड़ियां भी हैं।

इसी तरह सचिवालय के पास भी गाड़ियों को मोड़ते वक्त भी जाम लग रहा है। संजौली उपनगर में भी भारी ट्रैफिक जाम लग रहा है। मंगलवार सुबह के समय संजौली में टनल से लेकर चौक और यहां से आगे लक्कड़ बाजार और दूसरी ओर छोटा शिमला की ओर नवबहार में गैस एजेंसी के गोदाम तक गाड़ियों की लंबी लाइनें लगीं। यहां शाम के समय भी ट्रैफिक जाम लग रहा।

स्कूल खुलने के बाद एक दम बढ़ा जाम
शिमला में सोमवार से प्राइवेट स्कूल खुल गए हैं। इसके बाद से शिमला में भारी ट्रैफिक जाम लग रहा है। अधिकतर स्कूलों में बसों की बजाए निजी गाड़ियों और टैक्सियों से बच्चों को लाया जाता है। इससे स्कूलों के आसपास सुबह के समय ट्रैफिक जाम लग रहा है। यही नहीं इससे शहर में ट्रैफिक भी बढ़ गया है और जाम लग रहा है। इस जाम में लोगों का कीमती समय बर्बाद हो रहा है

 

Check Also

MP में शिक्षा पर मंथन:नई शिक्षा नीति में शिक्षकों पर रहेगा ज्यादा फोकस; बदलाव के लिए 20 साल का लक्ष्य रखा, सुझाव CM को भेजे जाएंगे

दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आज समापन हो गई। दो दिवसीय कार्यक्रम में संस्कार के …