टेलीग्राम के 50 करोड़ हुए यूजर, 3 दिन में 2.50 करोड़ नए लोगों ने अपनाया मैसेजिंग एप

नई दिल्ली : मैसेजिंग एप वाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी के बाद लोग टेलीग्राम और सिग्नल को तेजी से अपना रहे हैं। लोगों को अब वाट्स एप पहले की तरह सुरक्षित और निजी नहीं लग रहा है, इसलिए लोग इसका विकल्प ढूंढ रहे हैं। इंस्टैंट मैसेजिंग एप टेलीग्राम के अनुसार पिछले 72 घंटों में कंपनी को लगभग 2 करोड़ 50 लाख नए यूजर्स मिले हैं। कंपनी ने कहा है कि अब टेलीग्राम के टोटल एक्टिव यूजर्स की संख्या 50 करोड़ पार कर गई है। कंपनी के सीईओ ने इसके लिए यूजर्स का शुक्रिया अदा किया है। टेलीग्राम के मुताबिक नए यूजर्स दुनिया भर से जुड़े हैं। इनमें एशिया से 38 फीसदी यूजर्स आए हैं, 27 फीसदी यूरोप से, जबकि 21 फीसदी लैटिन अमेरिका से जुड़े हैं। ये आंकड़े पिछले साल के मुकाबले काफी ज्यादा हैं। टेलीग्राम के सीईओ पावेल डूरोव ने कहा है कि पिछले 7 साल से कंपनी यूजर्स की प्राइवेसी की रक्षा कर रही है और इससे पहले भी टेलीग्राम के डाउनलोड में बढ़ोतरी देखी गई है।
इस बार ये काफी अलग है। टेलीग्राम के सीईओ ने अपने राइवल ऐप वाट्स एप पर तंज करते हुए कहा है लोग अब फ्री सर्विस के लिए अपनी प्राइवेसी एक्स्चेंज नहीं करना चाहते हैं। लोग टेक मोनॉपली के गुलाम भी नहीं बनना चाहते हैं। पावेल डूरोव ने कहा कि दूसरे एप्स की तरह टेलीग्राम के पास न ही शेयरहोल्डर्स हैं और न ही एडवर्टाइजर्स हैं और टेलीग्राम किसी भी ऐडवर्टाइजर को रिपोर्टो भी नहीं करता है। कंपनी न ही सरकारी एजेंसियों के साथ डील करती है और न मार्केटर के साथ। कंपनी ने कहा है कि 2013 से अब तक कंपनी ने अभी यूजर्स के प्राइवेट डेटा का सिंगल बाइट भी किसी थर्ड पार्टी को नहीं दिया है। भारत में अभी से नहीं, बल्कि पिछले एक से दो साल में टेलीग्राम काफी पॉपुलर हुआ है। इसके पॉपुलर होने की एक बड़ी वजह इस ऐप का फाइल शेयरिंग फीचर भी है। इसकी वजह से लोग यहां फिल्में और सीरीज भी डाउनलोड करने आते हैं।

Check Also

भारत के कुछ रोचक तथ्य ।।

        भारत ने अपने आखिरी 100000 वर्षों के इतिहास में किसी भी देश पर …