टिकरी बॉर्डर:गूगल मैप पर दिखाई दे जाएगी मानसा व फिरोजपुर के किसानों की पहचान

जमीन पर रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी के नंबर बनाए गए। - Dainik Bhaskar

जमीन पर रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी के नंबर बनाए गए।

  • वेस्ट मेटिरियल से 12 किमी. के क्षेत्र को अनोखे ढंग से सजाएंगे
  • किसानों ने हाईवे पर वाहनों के नंबर लिखने किए शुरू

किसान आंदोलन में अपनी पहचान गूगल मैप पर बनाने के लिए मानसा और फिरोजपुर पंजाब के किसानों ने अलग तरकीब तैयार करके उस पर काम शुरू कर दिया है। किसानों ने बोतलों व उनके ढक्कनों से अपनी झाेपड़ियों व ट्राॅलियों के साथ बाइपास की बेल्ट पर अपने वाहन की रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी नंबर बनाने शुरू कर दिए हैं। इन नंबरों को वाहनों पर लिखा जाता है।

इससे वाहन की पहचान हो जाती है। वह किस जिले का है। मानसा के किसान बलजीत व बूटा सिंह ने बताया कि किसानों में काफी लोग वाहन चलाते हैं। इस कारण पहचान के लिए वहां के नंबरों का जिक्र करते हैं। जमीन पर बोतलों से बड़े-बड़े नंबर बनाए जा रहे हैं, जिससे गूगल मैप से भी देखा जाएगा तो वहां से भी पीबी 31 व पीबी 05 दिखाई देगा। जैसे हरियाणा में एचआर 10 सोनीपत व एचआर 13 बहादुरगढ़ के वाहनों पर नंबरों से पहले लिखे होते हैं।

कई चरणों में चल रहा बाइपास को संवारने का काम

हाईवे पर साफ-सफाई कर बोए थे प्याज और घास : पहले चरण में किसानों ने बाइपास से गंदगी को साफ किया व दूसरे चरण में वहां प्याज भी बोए और घास लगाने का काम शुरू किया। जब पानी नहीं मिला ताे मिट्टी को समतल करके वहां सुंदर-सुंदर झाेपड़ियां व खुली बैठक तैयार कर दी।

इसके बाद शौचालयों के लिए सड़कों को काट कर वहां पाइप बिछाकर उनके कनेक्शन सीवर में कर दिए। वहीं, गर्मियों के समय में अपने को सुरक्षित रखने के लिए ट्राॅलियों के नीचे ही स्थान बनाने की तैयारी तेज कर दी है।

 

Check Also

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने फोर्टिस अस्पताल में लगवाई कोरोना वैक्सीन

नई दिल्ली : केंद्र वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोविड-19 वैक्सीन का पहला डोज लगवा …