जुल्म की इंतहा ने ली जान:हेरोइन तस्करों ने तोड़े थे कबड्‌डी कोच समेत 7 लोगों के हाथ-पांव, 15 दिन बाद तोड़ा कोच ने दम; घर वाले कार्रवाई पर अड़े

बठिंडा में नशा तस्करों के हमले की वजह से कबड्‌डी कोच की मौत के बाद गुस्साए परिजन और इलाके के कबड्‌डी खिलाड़ी (इनसेट) कबड्‌डी कोच हरविंदर की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar

बठिंडा में नशा तस्करों के हमले की वजह से कबड्‌डी कोच की मौत के बाद गुस्साए परिजन और इलाके के कबड्‌डी खिलाड़ी (इनसेट) कबड्‌डी कोच हरविंदर की फाइल फोटो।

बठिंडा जिले के गांव चाऊके में नशा तस्करों के हमले में जख्मी कबड्‌डी कोच हरविंदर ने जख्मों का ताव न सहते हुए आखिर दम तोड़ दिया। इसके बाद गुस्साए परिजन और इलाके के अन्य लोग ने हंगामे पर उतर आए। बीते दिन लाश को साथ लेकर पुलिस चौकी के आगे प्रदर्शन किया, वहीं गुरुवार को रामपुरा के सरकारी अस्पताल के बाहर बवाल खड़ा कर दिया। साथ ही कबड्‌डी खिलाड़ियों ने भी परिवार के कुछ लोगों के साथ बठिंडा के मिनी सचिवालय के बाहर पुलिस के खिलाफ रोष जताया। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि जब तक आरोपी गिरफ्तार नहीं होते, हरविंदर का संस्कार नहीं करेंगे।

गुंडों के जुल्म की एक तस्वीर, जिस दौरान 7 लोग घायल हुए थे।

गुंडों के जुल्म की एक तस्वीर, जिस दौरान 7 लोग घायल हुए थे।

बता दें कि बीती 26 मई को हेरोइन बेचने से रोकने पर तस्करों ने गांव चऊके के 7 युवकों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा था। सभी पर तब तक तलवारों, गंडासों और कापों से वार किए गए, जब तक कि अधमरे नहीं हो गए। दो कबड्‌डी खिलाड़ियों समेत सभी 7 लोगों के गुंडों ने हाथ-पांव तोड़ दिए थे। इसके बाद गांव के कुछ लोगों ने हिम्मत जुटाते हुए इन्हें छुड़ाया और सरकारी अस्पताल में दाखिल करवाया। हमले में बुरी तरह से जख्मी हुआ बूटा सिंह नामक एक युवक तो हमलावरों की जान से मारने की धमकी के चलते अस्पताल में भी नहीं पहुंचा। वह अभी तक कहीं भूमिगत है। पुलिस ने इस संबंध में 25 के करीब आरोपियों के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज कर लिया, लेकिन किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया है। इसी बीच 9 जून को घायलों में से एक हरविंदर कोच की लुधियाना के DMCH में मौत हो गई।

प्रदर्शन के दौरान अपनी मां के बारे में बात करती मृतक कोच की बहन।

प्रदर्शन के दौरान अपनी मां के बारे में बात करती मृतक कोच की बहन।

गुरुवार को कबड्‌डी खिलाड़ियों के साथ बठिंडा के प्रदर्शन में पहुंची हरविंदर की बहन ने कहा कि ये सब पुलिस की शह पर हो रहा है। पुलिस चाहे तो एक दिन में आरोपियों को पकड़ सकती है। लक्खा सिधाना ने भी पुलिस की इस मामले में ढीली कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं। दूसरी ओर पुलिस का दावा है कि तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

ईएमसी योजना से 10 हजार युवाओं को मिलेगा रोजगार:मंत्री गणेश जोशी

नई दिल्ली/देहरादून, 15 जून (हि.स.)। इलेक्ट्रॉनिकी विनिर्माण क्लस्टर (ईएमसी 2.0) योजना से उत्तराखण्ड राज्य के …