Home / देश / जिस रोड पर भारी वाहन प्रतिबंधित, वहीं बाइक सवार दो युवकों को ट्रक ने कुचला

जिस रोड पर भारी वाहन प्रतिबंधित, वहीं बाइक सवार दो युवकों को ट्रक ने कुचला

भिलाई. जिस रोड पर भारी वाहनों का आना-जाना प्रतिबंधित है, वहीं एक ट्रक ने बाइक सवार दो युवकों को कुचल दिया। हादसा जेवरा सिरसा रोड पर शुक्रवार दोपहर हुआ। अंधे मोड़ पर सामने से आ रहे ट्रक ने टक्कर मार दी। संतुलन बिगड़ने से बाइक सवार दोनों युवक ट्रक के पहिए के नीचे आ गए। सोशल मीडिया पर घटना की फोटो वायरल होने पर बाइक चालक के बड़े भाई ने उसकी पहचान की। जबकि बाइक पर पीछे बैठे युवक की शिनाख्त नहीं हो पाई है। बाइक चलाने वाले युवक ने हेलमेट नहीं लगा रखा था।

प्रत्यक्षदर्शी राजेश ने कहा- युवक को घसीटते हुए आगे बढ़ा हाइवा

  1. हादसे में रामनगर कुटेलाभाठा निवासी आकाश (24) पिता पप्पू सोनकर  और बाइक पर बैठे एक अन्य युवक की मौत हो गई। दूसरे युवक के जेब से मिली पर्ची में उलेश्वर निवासी गौतम नगर लिखा हुआ है। पर्ची में लिखे नाम की गौतम नगर इलाके में देर रात तक पुलिस ने तलाश की, पर दूसरे युवक की शिनाख्त नहीं हो पाई। प्रत्यक्षदर्शी राजेश साहू ने बताया कि घटना कोहका आर्यनगर पार करने के बाद टाल के सामने से हुई। जहां हादसा हुआ वहां अंधा मोड़ है।
  2. आमने-सामने से आने वालों को वाहन चालकों को गाड़ी नहीं दिखती है। बाइक सवार युवक जेवरा सिरसा की तरफ से शहर की तरफ आ रहे थे। जबकि हाइवा जेवरा सिरसा की तरफ जा रहा था। बाइक सवार युवकों को हाइवा ने टक्कर मार दी। इससे बाइक व युवक पहिए के नीचे आ गए। ट्रक युवकों को घसीटते हुए कुछ दूरी तक ले गया। इसके बाद हाइवा चालक गाड़ी खड़ा करके खेत की तरफ भा गया। चंद मिनटों में घटना स्थल पर भीड़ लग गई। सूचना पर पुलिस भी आ गई थी।
  3. भारी वाहनों के प्रवेश पर रोक, बावजूद दौड़ रहे

    घटना स्थल पर कोई संकेतक नहीं लगे हुए हैं। इससे आने-जाने वालों को अंधे मोड़ का पता नहीं चल पाता है। सड़क किनारे लगे बोर्ड को पहले भी ट्रक वाले टक्कर मार चुके हैं। एक साल पहले भी इसी मोड़ पर सड़क हादसा हो चुका है। जिसमें दो युवकों की जान जा चुकी है। हादसे को रोकने के लिए घटना स्थल से करीब डेढ़ किलोमीटर पहले रोड पर सीमेंटेड पोल लगाए गए थे। लेकिन सड़क के बीचो-बीच लगे पोल को जेसीबी से मोड़ दिया गया। जिससे बड़े वाहनों का आवागमन आसानी से होने लगा।

  4. एक महीने बाद होने वाली थी आकाश की शादी

    पुलिस को दोस्त संतोष ने बताया कि आकाश की एक महीने बाद बनारस मेंं शादी होना था। शादी की बात पक्की हो गई थी। उसने एक महीने पहले सेकेंड हैंड बाइक खरीदी थी। वह सुबह सात बजे घर से बाइक लेकर निकला था। वह कभी-कभी दुर्ग स्टेशन से सामने बड़े भाई की फल की दुकान में बैठता था। घर में दूसरे नंबर का था। बड़ा भाई राहुल घर वालों से अलग रहता है। आकाश अपने भाई विकास,तेजेश्वर,बहन मानसी और माता पिता के साथ रहता था।

Loading...

Check Also

अंग्रेजों और वामपंथी इतिहासकारों को कोसने के बजाय नये सिरे से इतिहास लिखें: अमित शाह

वाराणसी :  गृह मंत्री अमित शाह ने देश के इतिहास को नये सिरे से संजोने ...