जानिए कौन हैं BJP में शामिल होने वाली खुशबू सुंदर, देश की ऐसी पहली एक्ट्रेस जिनके नाम पर बना मंदिर

दिल्ली. साउथ की फेमस एक्ट्रेस  खुशबू सुंदर ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है। उन्होंने सोमवार को दिल्ली में बीजेपी की सदस्यता ली। खुशबू तमिलनाडु और दक्षिण भारत के राज्यों में बहुत फेमस चेहरा है। वह एकमात्र ऐसी पहली एक्ट्रेस हैं जिनके चाहने वालों ने 1990 के दशक में मंदिर तक बना दिया।

बता दें कि खुशबू सुंदर का जन्म मुंबई में हुआ था और उनका असली नाम नखत खान है। उनकी पहली बॉलीवुड फिल्म ‘द बर्निंग ट्रेन’ थी। इसके बाद उन्होंने कई फिल्मों में काम किया लेकिन वो बॉलीवुड में उनका जादू नहीं चल पाया। फिर खुशबू ने साल 1986 में तमिल फिल्म इंडस्ट्री का रुख किया। वहां जाकर उन्होंने अपनी पहचान ही नहीं बनाई बल्कि 200 से ज्यादा फिल्मों में काम भी किया। वह देखते ही देखते तमिल सिनेमा में हिट एक्ट्रेस बन गईं।

<p>साउथ और बॉलीवुड सिनेमा में ऐसे पुरुष एक्टर हैं जिनका भारत में चाहने वालों ने मंदिर बनवाया है। लेकिन खुशबु ऐसी पहली फीमेल एक्टर हैं जिनका भारत में सबसे पहले मंदिर बना। यह मंदिर उनके चाहने वालों ने तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली में बनाया था।</p>

साउथ और बॉलीवुड सिनेमा में ऐसे पुरुष एक्टर हैं जिनका भारत में चाहने वालों ने मंदिर बनवाया है। लेकिन खुशबु ऐसी पहली फीमेल एक्टर हैं जिनका भारत में सबसे पहले मंदिर बना। यह मंदिर उनके चाहने वालों ने तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली में बनाया था।

<p><br />
इतना ही नहीं एक समय में खुशबू सुंदर का दक्षिण भारत में इतना क्रेस था कई निजी कंपनियों ने अपने प्रॉडक्ट्स का नाम एक्ट्रेस के नाम पर रखा। जैसे खुशबू शरबत, खुशबू कॉकटेल खुशबू कॉफी, खुशबू झुमकी, खुशबू साड़ी और &nbsp;खुशबू इडली तक बहुत फेमस हुई।</p>

इतना ही नहीं एक समय में खुशबू सुंदर का दक्षिण भारत में इतना क्रेस था कई निजी कंपनियों ने अपने प्रॉडक्ट्स का नाम एक्ट्रेस के नाम पर रखा। जैसे खुशबू शरबत, खुशबू कॉकटेल खुशबू कॉफी, खुशबू झुमकी, खुशबू साड़ी और  खुशबू इडली तक बहुत फेमस हुई।

<p>बता दें कि खुशबू सुंदर कई पार्टियों से जुड़ी रही हैं। वह 2010 में डीएमके में शामिल हुई थीं, तब डीएमके&nbsp;सत्ता में थी। हालांकि, चार साल बाद जब खुशबू सुंदर ने डीएमके छोड़ी, तो कहा था कि डीएमके के लिए कड़ी मेहनत एक तरफा रास्ता था। उसी साल 2014 में खुशबू, सोनिया गांधी से मिलने के बाद कांग्रेस में शामिल हो गई थी। उन्होंने 2014 में लोकसभा चुनाव लड़ा था। हालांकि, इसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

बता दें कि खुशबू सुंदर कई पार्टियों से जुड़ी रही हैं। वह 2010 में डीएमके में शामिल हुई थीं, तब डीएमके सत्ता में थी। हालांकि, चार साल बाद जब खुशबू सुंदर ने डीएमके छोड़ी, तो कहा था कि डीएमके के लिए कड़ी मेहनत एक तरफा रास्ता था। उसी साल 2014 में खुशबू, सोनिया गांधी से मिलने के बाद कांग्रेस में शामिल हो गई थी। उन्होंने 2014 में लोकसभा चुनाव लड़ा था। हालांकि, इसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था।

<p><br />
कांग्रेस में शामिल होने के बाद खुशबू सुंदर ने कहा था कि मुझे लगता है कि मैं घर पर हूं। कांग्रेस एकमात्र ऐसी पार्टी है जो भारत के लोगों के लिए अच्छा कर सकती है और देश को एकजुट कर सकती है। हालांकि, खुशबू को 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए टिकट नहीं मिला था जिसके बाद से ही वह पार्टी नाराज चल रही थीं।</p>

कांग्रेस में शामिल होने के बाद खुशबू सुंदर ने कहा था कि मुझे लगता है कि मैं घर पर हूं। कांग्रेस एकमात्र ऐसी पार्टी है जो भारत के लोगों के लिए अच्छा कर सकती है और देश को एकजुट कर सकती है। हालांकि, खुशबू को 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए टिकट नहीं मिला था जिसके बाद से ही वह पार्टी नाराज चल रही थीं।

Check Also

जम्मू-कश्मीर: कुलगाम आतंकी हमले में भाजपा के 3 कार्यकर्ता मारे गए

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में गुरुवार देर रात हुए आतंकी हमले में भारतीय …