जानिए आखिर क्यों वर्क फ्रॉम होम करने वाले अपने ही कर्मचारियों की जासूसी कर रही हैं कंपनियां

नई दिल्लीः विश्वभर में कोरोना महामारी के कारण कई देशों में बड़ी बड़ी कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को संक्रमण से बचाने के लिए वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दी है. वहीं लॉकडाउन के हटने के बाद अब कुछ कंपनियों ने वापस अपने कर्मियों को बुला लिया है, तो कहीं अभी भी कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम की सुविधा दी जा रही है. इसके साथ ही यह बात भी सामने आ रही है कि कुछ कंपनियां वर्क फ्रॉम होम के दौरान कर्मचारियों की जासूसी भी करवा रही हैं.

 

दरअसल ब्रिटेन के अखबार डेली मेल के अनुसार यह बात सामने आई है कि कुछ कंपनियां अपने कर्मचारियों की जासूसी का काम कर रही है. अखबार डेली मेल के अनुसार ब्रिटेन में अकाउंटेंसी और कानूनी कंपनियां अपने कर्मचारियों की जासूसी का काम करवा रही हैं. कंपनियां यह जानना चाहती हैं कि काम के दौरान उनके कर्मचारी घर पर रह कर काम कर रहे हैं या फिर घर से बाहर निकल कर अपने दूसरे काम तो नहीं कर रहे.

 

एक निजी जांचकर्ता के अनुसार पता चला है कि लॉकडाउन के बाद से ही कई कंपनियां इस तरह के जासूसी वाले काम करवा रही हैं. उनका कहना है कि कंपनियां यह भी पता लगा रही हैं कि कोरोना संक्रमण की चपेट में आए कर्मचारी खुद को आईसोलेशन में रख रहें या नहीं. उनका कहना है कि कंपनी ऐसा कर्मचारी और कंपनी में काम कर रहे बाकी कर्मचारियों के स्वास्थ्य के लिए कर रही हैं.

 

बता दें कि दुनियाभर में अबतक 3 करोड़ 77 लाख लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं. इसमें से 10 लाख 81 हजार (2.86%) लोगों ने अपनी जान गंवा दी है तो वहीं 2 करोड़ 83 लाख (75%) से ज्यादा मरीज ठीक हो चुके हैं. पूरी दुनिया में 83 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं, यानी फिलहाल इतने लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है.

Check Also

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की ब्रिटिश कोर्ट से सातवीं बार जमानत अर्जी खारिज

लंदन  :  भारतीय बैंकों को करोड़ों का चूना लगाकर भागे हीरा कारोबारी नीरव मोदी की …