Home / हेल्थ &फिटनेस / जानके होश उड़ जायेंगे आपके,लौकी के ज्यूस के अधिक सेवन करना है इतना खतरनाक

जानके होश उड़ जायेंगे आपके,लौकी के ज्यूस के अधिक सेवन करना है इतना खतरनाक

लौकी के ज्यूस को सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है  लौकी कर ज्यूस वजन कम करने में भी सहायक है एसिडिटी कम होती है और ये दिल की बीमारी  के साथ हाई बीपी के लिए भी फायदेमंद होता है।
 लेकिन अगर इसका अधिक मात्रा में सेवन कर लिया जाये तो इसके नुकशान भी हो सकते है लौकी का ज्यूस अगर अधिक पी लिया जाये तो इससे कई बीमारिया हो सकती है ऐसा दो करने से होता है एक तो लौकी का ज्यूस कच्चा पी लिया जाये तो ये पेट में पचने में मुश्किल होती है।
वही लौकी को अब आर्टिफिशियल ग्रोथ देने के लिए कई तरह के इंजेक्शन दिए जाते हैं और ऐसी लौकी का जूस बेहद हानिकारक और गंभीर रोग का कारण बन सकता है आज ह आपको लौकी के ज्यूस से होने वाले नुकशान के बारे में बताते है।
लौकी का ज्यूस के अधिक सेवन करने से पेट को नुकशान हो सकता है इससे दस्त और उलटी की दिक्क्त पैदा हो सकती है साथ ही कई बार ये बैक्टीरियल इंफेक्शन का कारन भी बन सकता है।
लौकी को  हानिकारक पेस्टीसाइट्स और ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन दे कर बड़ा किया जाता है ऐसी लौकी का ज्यूस बेहद खतरनाक होता है यदि इसे कच्चा  पी लिया जाये तो और भी नुक्शानदायक होता है ये लौकी स्वाद में कड़वी भी होती है इसे पीने से एलर्जी हो सकती है  हाथ- पैरों में सूजन, नाक या चेहरे पर दाने आना और उसमें खुजली होना, भूख लगना बंद हो जाना आदि समस्या दिखने लगती है।
यदि आप डाइबिटीज के मरीज है तो निर्धारित मात्रा से ज्यादा लौकी का ज्यूस पी लिया जाये तो ये आपके सुगर के स्तर को बहुत कम कर सकता है इससे आपको बेहोसी भी आ सकती हो ये बहुत ही खतरनाक स्तर होता है लौकी का ज्यूस इन्सुलिन का स्तर सामान्य करता है लेकिन ज्यादा कम होने पर हाइपोग्लाइसीमिया का खतरा उत्पन्न हो सकता है।
लौकी के ज्यूस का अधिक सेवन आपके शरीर पोटेशियम के स्तर को बढ़ा देता है इससे आपका ब्लडप्रेशर को कम कर सकता है और हाइपोटेंशन नामक बीमारी का खतरा बन जाता है।
यह बात सही है कि लौकी विटामिन सी, विटामिन ई और एंटीऑक्सिडेंट से भरी होती है लेकिन इसका जूस लेने की सीमा तय है ज्यादा एंटीऑक्सिडेंट या विटामिन ई का सेवन कैंसर जैसे रोग को जन्म दे सकता है।
Loading...

Check Also

खुलासा: मात्र इतने फीसद भारतीय बच्चों की होती नियमित आंख जांच

डॉक्टरों के अनुसार, एक ओर जहां 12 साल से कम उम्र के बच्चों में आंखों ...