जल्द इस नए विमान से उड़ान भरेंगे PM मोदी; अभेद्य किले जैसा सुरक्षित, मिसाइल का भी नहीं होता असर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जल्द ही अपनी देश-विदेश की यात्राओं के लिए एक विशेष विमान मिलने वाला है। ये विमान अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले विमान के बराबर ही सुरक्षित होगा। बताया जा रहा है कि आधुनिक रक्षा प्रणाली से लैस बोइंग 777-300 ईआर विमान बनकर तैयार हो गया है। यह विमान अभेद्य किले की तरह सुरक्षित है। यहां तक की यह विमान मिसाइल हमला भी नाकाम करने में सक्षम होगा। आईए जानते हैं विमान की कीमत और इसकी खूबियां..

भारत ने बोइंग कंपनी को ऐसे दो विमान बनाने का ऑर्डर दिया है। बताया जा रहा है कि एक विमान अगले महीने तक डिलीवर हो सकता है। ये विमान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले बोइंग 747-200 बी विमान जितने ही सुरक्षित होंगे। अभी भारत के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति बोइंग बी 747 से उड़ान भरते हैं।

<p><strong>कौन कौन करेगा इस्तेमाल?</strong><br />
बोइंग 777-300 ईआर का इस्तेमाल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। इन दोनों विमानों की कीमत करीब 8458 करोड़ रूपए है। इनमें से एक विमान अगले महीने तक भारत आ सकता है। इन विमानों का जिम्मा एयरफोर्स के पास होगा। एयरफोर्स के पायलट ही इन्हें उड़ाएंगे। </p>

कौन कौन करेगा इस्तेमाल?
बोइंग 777-300 ईआर का इस्तेमाल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। इन दोनों विमानों की कीमत करीब 8458 करोड़ रूपए है। इनमें से एक विमान अगले महीने तक भारत आ सकता है। इन विमानों का जिम्मा एयरफोर्स के पास होगा। एयरफोर्स के पायलट ही इन्हें उड़ाएंगे।

<p>बोइंग 777 पहला भारतीय विमान होगा, जो विशेष सुरक्षा प्रणाली से लैस होगा। यह दुश्मन के रडार की फ्रीक्वेंसी तक जाम कर सकता है। अगर इसके ऊपर मिसाइल फायर की गई तो इसे टारगेट नहीं कर सकता।</p>

बोइंग 777 पहला भारतीय विमान होगा, जो विशेष सुरक्षा प्रणाली से लैस होगा। यह दुश्मन के रडार की फ्रीक्वेंसी तक जाम कर सकता है। अगर इसके ऊपर मिसाइल फायर की गई तो इसे टारगेट नहीं कर सकता।

<p> यह विमान बिना पायलट के हस्तक्षेप के मिसाइल हमले को नाकाम कर सकता है। विमान में मिसाइल अप्रोच सिस्टम भी है, जो मिसाइल हमले की पूरी जानकारी देती है। इससे यह पता चल जाता है कि मिसाइल कितनी दूर है, कितनी स्पीड से आ रही है और कितनी ऊंचाई है। </p>

 यह विमान बिना पायलट के हस्तक्षेप के मिसाइल हमले को नाकाम कर सकता है। विमान में मिसाइल अप्रोच सिस्टम भी है, जो मिसाइल हमले की पूरी जानकारी देती है। इससे यह पता चल जाता है कि मिसाइल कितनी दूर है, कितनी स्पीड से आ रही है और कितनी ऊंचाई है।

<p>बोइंग 777 पहला भारतीय विमान होगा, जो विशेष सुरक्षा प्रणाली से लैस होगा। यह दुश्मन के रडार की फ्रीक्वेंसी तक जाम कर सकता है। अगर इसके ऊपर मिसाइल फायर की गई तो इसे टारगेट नहीं कर सकता। </p>

बोइंग 777 पहला भारतीय विमान होगा, जो विशेष सुरक्षा प्रणाली से लैस होगा। यह दुश्मन के रडार की फ्रीक्वेंसी तक जाम कर सकता है। अगर इसके ऊपर मिसाइल फायर की गई तो इसे टारगेट नहीं कर सकता।

<p>इसमें मिरर बॉल सिस्टम भी इस्तेमाल किया गया है। यह आधुनिक इंफ्रारेड सिग्नल से चलने वालीं मिसाइलों को भी भ्रमित कर सकता है। <br />
 </p>

इसमें मिरर बॉल सिस्टम भी इस्तेमाल किया गया है। यह आधुनिक इंफ्रारेड सिग्नल से चलने वालीं मिसाइलों को भी भ्रमित कर सकता है।

<p>इसके अलावा इस विमान में ऑफिस और मीटिंग रूम की व्यवस्था होगी। हवा में ईंधन भरने की क्षमता। यह विमान एक बार में भारत से अमेरिका तक की दूरी के बीच उड़ान भर सकेगा।<br />
 </p>

इसके अलावा इस विमान में ऑफिस और मीटिंग रूम की व्यवस्था होगी। हवा में ईंधन भरने की क्षमता। यह विमान एक बार में भारत से अमेरिका तक की दूरी के बीच उड़ान भर सकेगा।

Check Also

दिल्ली दंगे चार्जशीट में वृंदा करात, सलमान खुर्शीद का नाम, लोगों को सरकार के खिलाफ भड़काने के आरोप

दिल्ली में फरवरी में हुए दंगों के सिलसिले में पुलिस ने जो चार्जशीट दायर किया …