जयपुर से अहमदाबाद जा रहा यात्री सांस लेने में परेशानी से हुआ बेहोश, रेलवे ने किशनगढ़ में ट्रेन को 15 मिनट रोक यात्री को अस्पताल पहुंचाया

 

किशनगढ़ में ट्रेन को रुकवाकर राधेश्याम को उतारा गया। गंभीर हालत में उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया।

  • सीनियर डीसीएम, सीनियर डीओएम, एसीएम ने घर पर ही बना दिया अस्थाई कंट्रोल रूम

(शिवांग चतुर्वेदी)। जयपुर से अहमदाबाद जा रही आश्रम सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन रविवार को सिर्फ एक यात्री के लिए किशनगढ़ स्टेशन पर रोकी गई। ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि उस यात्री को अचानक सांस लेने में परेशानी होने लगी।

जिसके बाद वो बेसुध होकर कोच के अंदर सीट पर गिर गया। ये देख आस-पास के यात्रियों में भय की स्थिति बन गई। हालांकि जब इसका पता जयपुर सीनियर डीसीएम मुकेश सैनी और एसीएम राजेश सिंह को लगा, तो दोनों ने ट्रेन को किशनगढ़ स्टेशन पर रुकवाकर यात्री को अस्पताल भेजा।

यह है पूरा मामला
दरअसल जयपुर से अहमदाबाद जा रहे एक यात्री के लिए रेलवे अफसर फरिश्ता साबित हुए। राधेश्याम नाम का यात्री जयपुर से आश्रम सुपरफास्ट में अहमदाबाद जाने के लिए डी2 कोच की सीट नंबर 64 पर बैठा। ट्रेन रात आठ बजे जयपुर से रवाना हुई। करीब 9 बजे ट्रेन के फुलेरा पहुंचने पर उसे सांस लेने में परेशानी होने लगी।

लेकिन उसने पास बैठे किसी यात्री को कोरोना के भय के चलते बताया नहीं। ऐसे में ट्रेन फुलेरा से रवाना हो गई। तभी कुछ देर बाद ही वो सीट पर बेसुध होकर गिर गया। ये देख आस पास के यात्री घबरा गए। कुछ तो बीमारी के भय के चलते दूसरे कोच में चले गए। तभी पास बैठे एक रेलकर्मी ने इसकी सूचना कंट्रोल रूम को दी। जिसके बाद कंट्रोल ने यह बात सीनियर डीसीएम मुकेश सैनी और एसीएम राजेश सिंह को बताई।

दस मिनट में निर्णय लिया और ट्रेन को रुकवाया
मामले का पता चलते ही दोनों अधिकारी हरकत में आए। दोनों ने सीनियर डीओएम डॉ राकेश कुमार को ट्रेन को अगले स्टेशन पर रुकवाने के लिए कहा। कुमार ने तुरंत घर पर अस्थाई कंट्रोल रूम बनाकर ट्रेन को किशनगढ़ स्टेशन पर रूकवाया। जहां स्टेशन पर एम्बुलेंस के जरिए उसे पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया।

 

Check Also

शासन-प्रशासन की अनदेखी से परेशान खिलाड़ी खुद कर रहे ग्राउंड में घास की कटाई

खिलाड़ी ही घास हटाने का काम कर रहे हैं। रोज गांधी ग्राउंड में प्रैक्टिस करने …