Home / उत्तर प्रदेश / जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सर्वमान्य बताया

जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सर्वमान्य बताया

वाराणसी :  मुसलमानों की शीर्ष संस्था जमीयत उलेमा-ए-हिंद की वाराणसी इकाई ने अयोध्या मामले में शनिवार को सुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले को सर्वमान्य बताया है।
वाराणसी के मीडिया प्रभारी मोहम्मद रिजवान ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत है। हमारे संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी, दारुल उलूम देवबंद के कुलपति मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम हमेशा से कहते रहे हैं कि राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आयेगा, स्वीकार्य होगा । रिजवान ने कहा कि हमारा संगठन हमेशा से देश में अमन चैन, तरक्की, शिक्षा, भाई चारे की बात करता रहा है।
चौक के बनारसी साड़ी के प्रमुख कारोबारी फैयाज अहमद, कांग्रेस के नेता और कारोबारी फरीद अहमद ने भी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को सराहा। उन्होंने कहा कि देश में अमन चैन कायम रहे, खुशहाली आये, इसके लिए सरकार गम्भीर प्रयास करे।
गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त करने पर भी जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने केन्द्र की सरकार का समर्थन किया था। तब संस्था ने अपनी सालाना बैठक में कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है तथा घाटी के लोगों का कल्याण भारत के साथ एकीकरण में ही है। संगठन के शीर्ष नेताओं ने कहा था कि देश की एकता और अखंडता के लिए लगातार खड़ा है और इसे सर्वोच्च महत्व देता है। यह कभी भी किसी अलगाववादी आंदोलन का समर्थन नहीं कर सकता है और उसका मानना है कि इस तरह के आंदोलन न केवल भारत बल्कि कश्मीर के लोगों के लिए भी हानिकारक है। कश्मीर के लोगों के दिलों को जीतने के लिए हरसंभव संवैधानिक उपाय किया जाना चाहिए।
Loading...

Check Also

टोल पर जाम की वजह बनी फ़ास्ट टैग की रिहर्शल

  उन्नाव/हसनगंज- भारत सरकार के निर्देशानुसार सभी प्राइवेट व कमर्शियल वाहनों पर 1 दिसंबर से ...