चुनावों में देरी पर सोमालिया में भड़की हिंसा, सरकार ने UAE को जिम्मेदार ठहराते हुए माफी मांगने को कहा

Tensions Increased Between Somalia And UAE: अफ्रीकी देश सोमालिया (Somalia) में चुनाव में देरी होने पर काफी हिंसा हुई है, जिसमें पांच लोगों की मौत हो गई और बड़ी संख्या में लोग घायल हुए हैं. इसके बाद सरकार (Somalia Government) ने एक ऐसा बयान जारी किया है, जिसके बाद उसके संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates) के बीच तनाव (Somalia UAE Tensions) बढ़ गया है. यहां होने वाली हिंसा के दो दिन बाद विदेश मंत्रालय ने ‘बाहरी ताकतों’ पर समस्याएं बढ़ाने का आरोप लगाया है. सोमालिया में चुनाव में देरी होने को लेकर हुए हिंसक प्रदर्शनों में कम से कम पांच सैनिक मारे गए थे.

इसके अलावा एक दर्जन से अधिक लोग जख्मी भी हुए हैं, जिनमें अधिकतर आम आदमी हैं. सोमालिया के राष्ट्रपति मोहम्मद अब्दुल्लाही मोहम्मद (Mohamed Abdullahi Mohamed ) काफी दबाव का सामना कर रहे हैं क्योंकि देश में आठ फरवरी को चुनाव (Elections in Somalia) होना था, लेकिन उस दिन मतदान नहीं हो सका. दरअसल इस बात पर कोई सहमति नहीं बन सकी थी कि चुनाव कैसे कराया जाए. सोमालिया के कुछ लोग राष्ट्रपति के इस्तीफे (Somalia Issue) की मांग कर रहे हैं.

गुमराह करने वाले बयान देने का आरोप

विदेश मंत्रालय ने रविवार को जारी एक बयान में आरोप लगाया है कि एक देश गलत जानकारी, तथ्यहीन एवं गुमराह करने वाले बयान जारी कर रहा है, जो विद्रोह का समर्थन करते हुए प्रतीत होते हैं. हालांकि बयान में किसी देश का नाम नहीं लिया गया है लेकिन यह स्पष्ट है कि संयुक्त अरब अमीरात (UAE and Somalia Issue) का हवाला दिया जा रहा है, जिसने हिंसा की आलोचना की थी. इसके साथ ही यूएई ने यहां के हालातों पर भी चिंता व्यक्त की थी.

यूएई ने क्या कहा था?

यूएई ने शनिवार को एक बयान में कहा था, ‘यूएई ने सोमालिया की राजधानी मोगादिशु में हालात बिगड़ने पर गंभीर चिंता प्रकट की है.’ सोमालिया के सूचना मंत्री उस्मान डबे (Osman Dubbe) ने यूएई के बयान का रोषपूर्ण जवाब देते हुए कहा है कि यह भड़काऊ है. उन्होंने कहा कि यूएई को माफी (Somalia Said UAE Should Apologize) मांगनी चाहिए. यूएई और सोमालिया के रिश्ते तब बिगड़े थे, जब यूएई की एक कंपनी डीपी वर्ल्ड ने सोमालिया की संघीय सरकार (Somalia Federal Government) की सहमति के बिना सोमालीलैंड (Somaliland) और पुंटलैंड (Puntland) के सोमाली क्षेत्रीय प्रशासन के साथ अलग-अलग समझौतों पर हस्ताक्षर किए थे.

Check Also

1 साल से सीमाएं सील:नॉर्थ कोरिया छोड़ने के लिए रूसी राजनयिकों ने 34 घंटे ट्रेन-बस में सफर किया, हैंडकार्ट को धक्का मारकर रूस पहुंचे

कोरोना की वजह से उत्तर कोरिया की सीमाएं जनवरी 2020 से सील हैं। इस कारण …