चुनावी रैली में भीड़ देखकर जोश में आए ट्रंप, कहा- जो बिडेन अमेरिकी चुनाव इतिहास के सबसे कमजोर उम्मीदवार

उत्तर कैरोलिना: अमेरिका में रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. अब ट्रंप ने बिडेन को ‘अमेरिका के इतिहास में सबसे खराब उम्मीदवार’ बताया है. नॉर्थ कैरोलिना की रैली में भीड़ देखकर जोश में आए ट्रंप ने कहा, ‘मैं राष्ट्रपति की राजनीति के इतिहास में सबसे खराब उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ रहा हूं और अगर मैं हार जाता हूं, तो यह मेरे लिए बहुत बड़ी चिंता की बात होगी. ‘काश वह अच्छा होता, तो मुझपर दबाव कम होता.’

 

ट्रंप ने याद दिलाया कि हाल ही में कैसे जो बिडेन अपने भाषण के बीच में ही राष्ट्रपति पद के पूर्व रिपब्लिकन उम्मीदवार मिट रोमनी का नाम भूल गए. राष्ट्रपति ने कहा, “यह अविश्वसनीय है. यह कितनी खराब बात है. यह बहुत ही शर्मनाक है. अगर वह जीतते हैं तो चरम वामपंथी देश चलाएंगे. वह देश नहीं चलाएंगे. चरम वामपंथी सत्ता हथिया लेंगे. हम जीत कर व्हाइट हाउस में चार साल और रहेंगे.”

 

उन्होंने कहा, “यह चुनाव एक सरल विकल्प है. अगर बिडेन जीत जाते हैं, तो चीन जीत जाएगा. ऐसे सभी अन्य देश जीत जाएंगे. सब हमें नुकसान पहुंचाएंगे. यदि हम जीतते हैं, तो आप जीतते हैं, पेंसिल्वेनिया जीतता है और अमेरिका जीतता है. बहुत ही सीधी बात है.”

 

हैरिस ने भी ट्रंप प्रशासन को बताया अमेरिका के इतिहास में सबसे नाकाम प्रशासन
वहीं डेमोक्रेटिक पार्टी से उप राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस ने कोरोना वायरस से निपटने में ‘नाकाम’ रहने के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आलोचना की और कहा कि अमेरिका के इतिहास में ट्रंप का प्रशासन ‘सर्वाधिक नाकाम’ रहा है. हैरिस ने कहा कि लाखों लोग ट्रंप की नाकामी का खमियाजा भुगत रहे हैं. अमेरिका को एक नए राष्ट्रपति की जरूरत है जो ‘विज्ञान को अपनाए, जो तथ्यों और सच्चाई के हिसाब से काम करे, जो अमेरिकी अवाम से सच बोले और जिसके पास कोई योजना हो.’

 

हैरिस ने कहा, “हमारे देश के इतिहास में यह राष्ट्रपति और उनका प्रशासन सबसे ज्यादा नाकाम है. आप जरा अतीत में जाइए और देखिए कि उन्हें क्या पता था, चलिए 28 जनवरी से शुरुआत करते हैं, जब राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति को बताया गया कि यह बीमारी जानलेवा है, यह बच्चों को नुकसान पहुंचा सकता है, यह सामान्य सर्दी जुकाम से पांच गुना ज्यादा जानलेवा है, लेकिन उन्होंने यह जानकारी छुपाई, उन्होंने यह जानकारी अमेरिका की जनता के साथ शेयर नहीं की.”

Check Also

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की ब्रिटिश कोर्ट से सातवीं बार जमानत अर्जी खारिज

लंदन  :  भारतीय बैंकों को करोड़ों का चूना लगाकर भागे हीरा कारोबारी नीरव मोदी की …