चीन में एक बार फिर बढ़ रहे हैं कोविड-19 के मामले, देश में न्यूक्लिक एसिड परीक्षण शुरू

चीन के शहर किंगदाओ में कोविड-19  मामलों को लेकर बड़े पैमाने पर न्यूक्लिक एसिड परीक्षण शुरू किए हैं। पिछले 24 घंटों में 6 एसिम्टोमेटिक केस रिपोर्ट किए गए। इनमें ज्यदातर मामले छाती के अस्पताल से संबंधित थे। इन मामलों के पता चलने के बाद जांच शुरू की गई। शहर के अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि शहर के 90 लाख लोगों का परीक्षण किया जाएगा। नए मामलों की पुष्टि होने के बाद रविवार शाम को सामूहिक परीक्षण शुरू किया गया। रविवार की रात को ऑनलाइन तस्वीरें देखी गईं जिनमें वहां के निवासी परीक्षण के लिए लाइनों में खड़े थे।

रविवार रात छह मामलों की पुष्टि होने के बाद बड़े स्तर पर जांच शुरू की गई। जांच में  छह प्रसारित करने वाले मामले सामने आए और छह एसिमटोमेटिक मामलों की भी सूचना दी गई जिसके कारण नए प्रकोप की चिंता बढ़ गई। स्थानीय मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि रविवार की रात तक सभी मामले क़िंगदाओ चेस्ट अस्पताल से जुड़े थे। जहां कोरोना के मामलों का इलाज चल रहा था। स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, अस्पताल को सील कर दिया गया है और सभी डॉक्टरों और चिकित्सा कर्मचारियों का परीक्षण किया जा रहा है।

संक्रिमत मरीजों के के परिवार वालों को इमारतों में बंद कर दिया गया है और उनका परीक्षण किया जा रहा है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि पांच जिलों शिनान, शिबे, लिसांग, लाहोन और चेंगयांग में रहने वाले 60 लाख लोगों को अगले तीन दिनों तक पूरी तरह कवर किया जाएगा। बाकी आबादी को आने वाले हफ्ते में कवर किया जाएगा।

चीन में कोविड-19 के मामलों में गिरावट देखने को मिल रही थी। लेकिन फिर भी पूरा देश और स्वास्थ्य मशीनरी को हाई अलर्ट पर रखा गया था ताकि लॉकडाउन को रोका जा सके। दुनिया दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था चीन कोरोना वायरस के कारण दशकों में पहली इतनी संकुचित हुई है। इस साल के शुरू में मामलों की चरम संख्या के बाद से, जून में बीजिंग से छोटे प्रकोपों ​​की सूचना दी गई है, जो उत्तर-पूर्वी शहर डालियान और उरुमकी से है। चीन में COVID-19 मामलों की कुल संख्या 85,578 है, जबकि मृत्यु दर 6,634  रही इसमें कोई बदलाव नहीं आया। कोरोना वायरस के 3000 से ज्यादा इम्पोर्टेड मामले सामने आए हैं।

Check Also

हैवानियत: 6 दिनों तक दो बहनों के साथ 15 लोगों ने किया गैंगरेप, आपत्तिजनक वीडियो भी बनाया

देश-दुनिया में चाहे जितना बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा लगा लिया जाए लेकिन बच्चियों …