चीन, चिराग से लेकर बंगाल और कृष्ण जन्मभूमि तक…अमित शाह ने बेबाकी से दिए इन 7 मुद्दों पर जवाब

नई दिल्ली. गृह मंत्री अमित शाह ने कोरोना से जंग जीतने के करीब दो महीने बाद एक निजी चैनल को इंटरव्यू दिया। इस दौरान वे अपने पुराने यानी बेबाक अंदाज में नजर आए। शाह किसी भी मुद्दे पर बड़ी सफाई से अपनी बात रखने के लिए जाने जाते हैं। इस इंटरव्यू में भी उन्होंने चीन, सुशांत, बिहार चुनाव, कृष्ण जन्मभूमि, से लेकर बंगाल तक तमाम मुद्दों पर अपनी राय रखी। उन्होंने बंगाल के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। आईए जानते हैं कि अमित शाह ने किस मुद्दे पर क्या कहा?

पूर्वी लद्दाख में चीन से विवाद पर क्या बोले अमित शाह?
लद्दाख में चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच अमित शाह ने शनिवार को कहा कि मोदी सरकार देश की एक-एक इंच जमीन को बचाने के लिए पूरी तरह सजग है और कोई इस पर कब्जा नहीं कर सकता। शाह ने यह भी कहा कि सरकार चीन में लद्दाख के साथ गतिरोध को सुलझाने के लिए हरसंभव सैन्य और कूटनीतिक कदम उठा रही है। शाह ने कहा, ‘हम अपने एक-एक इंच भूभाग को लेकर चौकन्ने हैं, कोई इस पर कब्जा नहीं कर सकता। हमारे रक्षा बल और नेतृत्व देश की संप्रभुता और सीमा की रक्षा करने में सक्षम हैं।’

<p><strong>क्या बंगाल में लगना चाहिए राष्ट्रपति शासन?</strong><br />
अमित शाह ने कहा, बंगाल में कानून व्यवस्था चरमरा गई है। इस पर सरकार का कोई ध्यान नहीं है। राज्य में विपक्षी नेताओं को मारा जा रहा है और लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। अम्फान के वक्त राज्य में कोई व्यवस्था नहीं की गई। केंद्र की तरफ से भेजी जा रहा अनाज भी घोटालों की भेंट चढ़ गया। वहीं, राज्य में राष्ट्रपति शासन की मांग को लेकर उन्होंने कहा, जो राजनीतिक पार्टी के नेता, वहां काम कर रहे हैं, स्थिति के मुताबिक उनकी मांग सही है। उन्होंने कहा, वहां के हालात को देखा जाए तो राष्ट्रपति शासन की मांग सही है।&nbsp;</p>

क्या बंगाल में लगना चाहिए राष्ट्रपति शासन?
अमित शाह ने कहा, बंगाल में कानून व्यवस्था चरमरा गई है। इस पर सरकार का कोई ध्यान नहीं है। राज्य में विपक्षी नेताओं को मारा जा रहा है और लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। अम्फान के वक्त राज्य में कोई व्यवस्था नहीं की गई। केंद्र की तरफ से भेजी जा रहा अनाज भी घोटालों की भेंट चढ़ गया। वहीं, राज्य में राष्ट्रपति शासन की मांग को लेकर उन्होंने कहा, जो राजनीतिक पार्टी के नेता, वहां काम कर रहे हैं, स्थिति के मुताबिक उनकी मांग सही है। उन्होंने कहा, वहां के हालात को देखा जाए तो राष्ट्रपति शासन की मांग सही है।

<p><strong>कौन होगा बिहार का मुख्यमंत्री?</strong><br />
जब शाह से पूछा गया कि बिहार में यदि बीजेपी की सीटें जेडीयू से अधिक आती हैं तो क्या पार्टी मुख्यमंत्री पद पर दावेदारी करेगी, इस पर उन्होंने कहा, 'केंद्र सरकार संविधान को ध्यान में रखते हुए और राज्यपाल की रिपोर्ट के आधार पर उचित निर्णय लेगी।' उन्होंने कहा, 'कोई अगर, मगर की बात नहीं है। नीतीश कुमार बिहार के अगले मुख्यमंत्री होंगे। हमने सार्वजनिक घोषणा की है और हम इसे लेकर प्रतिबद्ध हैं।'&nbsp;</p>

कौन होगा बिहार का मुख्यमंत्री?
जब शाह से पूछा गया कि बिहार में यदि बीजेपी की सीटें जेडीयू से अधिक आती हैं तो क्या पार्टी मुख्यमंत्री पद पर दावेदारी करेगी, इस पर उन्होंने कहा, ‘केंद्र सरकार संविधान को ध्यान में रखते हुए और राज्यपाल की रिपोर्ट के आधार पर उचित निर्णय लेगी।’ उन्होंने कहा, ‘कोई अगर, मगर की बात नहीं है। नीतीश कुमार बिहार के अगले मुख्यमंत्री होंगे। हमने सार्वजनिक घोषणा की है और हम इसे लेकर प्रतिबद्ध हैं।’

<p><strong>सुशांत केस पर क्या हैं गृह मंत्री के विचार?</strong><br />
गृह मंत्री अमित शाह ने सुशांत केस को लेकर भी अपनी राय रखी। शाह ने कहा, मुझे नहीं पता कि जमीनी स्तर पर यह केस कितना चुनावी मुद्दा बना। लेकिन अगर बना है तो हम इसे पहले ही सीबीआई को दे देते तो यह मुद्दा नहीं बनता। उन्होंने कहा, &nbsp;यह आदेश सुप्रीम कोर्ट का आदेश है। सुशांत की जगह अगर कोई भी व्यक्ति होता तो जांच ढंग से होनी चाहिए। न्यायिक होनी चाहिए। हालांकि, उन्होंने कहा, इसमें मीडिया ट्रायल नहीं होना चाहिए। लेकिन कहीं ज्‍यादा लापरवाही लीपापोती हो तो सरकार की नाक जरूर पकड़ना चाहिए। बॉलीवुड को लेकर अमित शाह ने कहा, &nbsp;ड्रग्‍स एक खतरनाक नासूर है, इसे जल्‍दी समाप्‍त कर देना चाहिए। उन्होंने कहा, ड्रग्‍स का कारोबार खत्म करने के लिए हम जरूरी कानूनी बदलाव कर रहे हैं।&nbsp;</p>

सुशांत केस पर क्या हैं गृह मंत्री के विचार?
गृह मंत्री अमित शाह ने सुशांत केस को लेकर भी अपनी राय रखी। शाह ने कहा, मुझे नहीं पता कि जमीनी स्तर पर यह केस कितना चुनावी मुद्दा बना। लेकिन अगर बना है तो हम इसे पहले ही सीबीआई को दे देते तो यह मुद्दा नहीं बनता। उन्होंने कहा,  यह आदेश सुप्रीम कोर्ट का आदेश है। सुशांत की जगह अगर कोई भी व्यक्ति होता तो जांच ढंग से होनी चाहिए। न्यायिक होनी चाहिए। हालांकि, उन्होंने कहा, इसमें मीडिया ट्रायल नहीं होना चाहिए। लेकिन कहीं ज्‍यादा लापरवाही लीपापोती हो तो सरकार की नाक जरूर पकड़ना चाहिए। बॉलीवुड को लेकर अमित शाह ने कहा,  ड्रग्‍स एक खतरनाक नासूर है, इसे जल्‍दी समाप्‍त कर देना चाहिए। उन्होंने कहा, ड्रग्‍स का कारोबार खत्म करने के लिए हम जरूरी कानूनी बदलाव कर रहे हैं।

<p><strong>मथुरा कृष्ण जन्मभूमि पर क्या दिया अमित शाह ने जवाब?</strong><br />
अमित शाह ने कहा, मथुरा मंदिर मामले में हमारी पार्टी का कोई रोल नहीं है। हम इस पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे। राम मंदिर हमारा एजेंडा था। अभी जो संगठन गए हैं कोर्ट, वे अपनी मर्जी से गए हैं।&nbsp;</p>

मथुरा कृष्ण जन्मभूमि पर क्या दिया अमित शाह ने जवाब?
अमित शाह ने कहा, मथुरा मंदिर मामले में हमारी पार्टी का कोई रोल नहीं है। हम इस पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे। राम मंदिर हमारा एजेंडा था। अभी जो संगठन गए हैं कोर्ट, वे अपनी मर्जी से गए हैं।

<p><strong>आर्टिकल 370 को लेकर कांग्रेस पर क्यों भड़के अमित शाह?&nbsp;</strong><br />
कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने हाल ही में एक बयान में कहा था कि मोदी सरकार के 5 अगस्त 2019 के असंवैधानिक फैसले को रद्द किया जाना चाहिए। यह मुद्दा बिहार चुनाव में भी काफी चर्चा में है। अब अमित शाह ने अपने बयान में कहा कि चिदंबरम के बयान को राहुल और सोनिया जी को दोहराना चाहिए। जम्‍मू कश्‍मीर को पूर्ण राज्‍य का दर्जा देने पर काम चल रहा है। विकास के साथ ही इसे भी देखा जा रहा है।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

आर्टिकल 370 को लेकर कांग्रेस पर क्यों भड़के अमित शाह? 
कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने हाल ही में एक बयान में कहा था कि मोदी सरकार के 5 अगस्त 2019 के असंवैधानिक फैसले को रद्द किया जाना चाहिए। यह मुद्दा बिहार चुनाव में भी काफी चर्चा में है। अब अमित शाह ने अपने बयान में कहा कि चिदंबरम के बयान को राहुल और सोनिया जी को दोहराना चाहिए। जम्‍मू कश्‍मीर को पूर्ण राज्‍य का दर्जा देने पर काम चल रहा है। विकास के साथ ही इसे भी देखा जा रहा है।

<p><strong>चिराग को लेकर अमित शाह का बड़ा बयान</strong><br />
बिहार में सत्तारूढ़ गठजोड़ से लोक जनशक्ति पार्टी के अलग होने का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि पार्टी को पर्याप्त संख्या में सीटों की पेशकश की गई लेकिन फिर भी वह गठबंधन से अलग हो गयी। उन्होंने कहा, 'यह उनका फैसला था, हमारा नहीं।' उन्होंने कहा, हमारी कई बार इस बारे में बात हुई। मैंने खुद व्यक्तिगत तौर पर कई बार चिराग से बात की।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

चिराग को लेकर अमित शाह का बड़ा बयान
बिहार में सत्तारूढ़ गठजोड़ से लोक जनशक्ति पार्टी के अलग होने का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि पार्टी को पर्याप्त संख्या में सीटों की पेशकश की गई लेकिन फिर भी वह गठबंधन से अलग हो गयी। उन्होंने कहा, ‘यह उनका फैसला था, हमारा नहीं।’ उन्होंने कहा, हमारी कई बार इस बारे में बात हुई। मैंने खुद व्यक्तिगत तौर पर कई बार चिराग से बात की।

Check Also

किसान पत्नी का इलाज कराने गया, इधर सूने घर से 35 तोला सोना-चांदी समेत 5 लाख नकदी ले गए चोर

  चोर आलमारी व पेटी में रखे 5.27 लाख रुपए नकदी सहित लाखों के जेवर …