घर में रखते हैं शिवलिंग तो रखें इन बातों का ध्यान, नहीं तो हो सकती है समस्याएं, जानें रखने का सही तरीका

Keep Shivling at homeशिवलिंग शिव का ही एक रूप है. शिव पुराण में कहा गया है कि शिवलिंग बहुत ही संवेदनशील होता है और इसकी थोड़ी पूजा से भी शुभ फल मिलते हैं. यदि आप शिवलिंग को घर में रख रहें हैं तो इन बातों का ध्यान अवश्य रखें. इससे शिवजी की कृपा आप पर बरसेगी और आप सुख समृद्धि का भोग करेंगे.  

 

घर में शिवलिंग रखने पर रखें इन बातों का ध्यान

  1. यदि आप शिवलिंग की पूजा करने में असमर्थ है तो शिवलिंग को घर में नहीं रखना चाहिए.
  2. घर में शिवलिंग की प्राण प्रतिष्ठा नहीं करवानी चाहिए. उसको वैसे ही रखकर विधि विधान से पूजा करनी चाहिये. उनका नित्य अभिषेक करना चाहिए.
  3. घर में नर्मदा नदी से निकले पत्थर से बना शिवलिंग रखना चाहिए. यह अधिक शुभकारी होता है.
  4. घर में छोटा सा शिवलिंग रखना चाहिए. शिवलिंग की लम्बाई हमारे हाथ के अंगूठे के ऊपर वाले पोर से ज्यादा बड़ी नहीं होनी चाहिए. ज्यादा बड़े शिवलिंग को मंदिरों में रखा जाना चाहिए. ये अधिक शुभ फल प्रदान करते हैं.
  5. शिवलिंग की रोज़ सुबह-शाम पूजा करनी चाहिए. यदि नियमित रूप से पूजा कर पाना संभव ना हो तो घर में शिवलिंग नहीं रखना चाहिए.
  6. शिवपुराण में कहा गया है कि घर में एक से ज्यादा शिवलिंग नहीं रखने चाहिए.
  7. घर के किसी बंद स्थान में शिवलिंग नहीं रखना चाहिए. शिवलिंग को हमेशा खुले स्थान पर रखा जाना चाहिए.
  8. वास्तु शास्त्र के मुताबिक़ चूंकि शिवलिंग से हर वक़्त ऊर्जा का संचार हो रहा होता है इसलिए शिवलिंग पर हमेशा जलधारा रखनी चाहिए जो ऊर्जा को शांत रखता है. कुछ लोग शिव लिंग पर हप्ते भर में या फिर प्रतिदिन जल अर्पित करते हैं वह प्रयाप्त नहीं होता है. इससे घर में अशांति रहती है.
  9. यदि आप धातु का शिवलिंग घर में रखते है तो यह सोने, चांदी या ताम्बे से बना होना चाहिए. उसी धातु का एक नाग भी उस पर लिपटा होना चाहिए.
  10. भगवान शंकर को केतकी के फूल, तुलसी, सिंदूर और हल्दी अप्रिय है. इस लिए ये चीजें शिवलिंग पर नहीं चढ़ाना चाहिए.
  11. घर में रखे शिवलिंग को अकेले नहीं रखना चाहिए. उसके साथ भगवान शिव के परिवार की फोटो भी रखनी चाहिए.

Check Also

इस दिन भूलकर भी ना चढ़ाएं पीपल के वृक्ष को जल,वरना घर में छा जाएगी कंगाली,जानें इससे जुड़ी सभी सावधानियां

हिन्दू मान्यताओं में प्रकृति को अलौकिक दर्जा दिया गया है। यही वजह है कि किसी …