गन्ने का जूस पागलपन का कारगर इलाज है कैंसर जैसी घातक बीमारियों से भी करता है बचाव :- आज के इस दौर में बीमारियां बड़ी आसानी से लोगो को अपना shikar बना रही है तब हमें ज्यादा से ज्यादा पोषक तत्वों से युक्त आहार के सेवन की बहुत जरुरत बढ़ जाती है और इसमें गन्ने का रस ऐसा ही एक पिने का पदारत है जो न सिर्फ स्वाद में मीठा है बल्कि अच्छा लगता है और इससे कई तरह की बीमारियों से हमें सुरक्षा मिलती है इस गन्ने के रस में कैल्शियम, आयरन, पोटैशियम, आयरन, मैग्नीशियम और फॉस्फोरस जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हमरे शारीरक के लिए विभिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति करते है और इसके आलावा इस गन्ने के रस के सेवन से रक्त प्रवाह को भी दुरुस्ती का काम करता है तो आयीये गन्ने के रस के हमारे स्वास्थ्य को और क्या फायदे पहुंचाता है इस बारेमे आप जानकारी प्राप्त करे और तंदुरुस्त रहे

हिचकी में – अगर आप हिचकी से परेशान हैं तो गन्ने का रस आपकी इस समस्या से निजात दिला सकता है। गन्ने के रस में पानी मिलाकर पीने से हिचकी दूर हो जाती है। इसके अलावा 5-10 बूंद गन्ने का सिरका पानी में मिलाकर पीने से भी लाभ मिलता है।

 

कैंसर के उपचार में – गन्ने के रस में कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन और मैग्नीशियम की काफी मात्रा पाई जाती है। यह कैंसर से बचाव में हमारी मदद करते हैं। गन्ने के रस का सेवन करने से प्रोस्टेट और ब्रीस्ट कैंसर से लड़ने में काफी मदद मिलती है।

पाचन में – गन्ने में मौजूद पोटैशियम बोहतर पाचन क्रिया के लिए काफी लाभकारी होता है, इसलिए पाचन संबंधी किसी भी समस्या से निपटने के लिए गन्ने का जूस जरूर पीना चाहिए। पेट में संक्रमण और कब्ज की समस्या में भी गन्ने का रस काफी फायदेमंद है।

मानसिक उन्माद या पागलपन में – पागलपन के मरीज के लिए भी गन्ने का रस काफी लाभदेह होता है। गन्ने के रस में 2-3 ग्राम कुटकी का चूर्ण मिला लें और फिर इसे दूध में मिलाकर रोजाना सुबह और शाम सेवन करने से मानसिक उन्माद यानी कि पागलपन की समस्या से निजात मिलती है।