क्या ड्रैगन कर रहा युद्ध की तैयारी? पूर्वी लद्दाख के पास दो दर्जन चीनी जेट कर रहे अभ्यास

 

भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख सीमा पर पिछले एक साल से तनातनी अभी खत्म भी नहीं हुई कि ड्रैगन फिर चालबाजियां करता नजर आ रहा है। चीनी वायुसेना पूर्वी लद्दाख के सामने अपने क्षेत्र में बड़ा अभ्यास करते हुए नजर आई है। इस अभ्यास में चीन के लगभग दो दर्जन लड़ाकू विमान शामिल हुए। चीन के लड़ाकू विमानों के अभ्यास पर भारतीय सेना भी करीब से नजर बनाए हुई है।

रक्षा सूत्रों ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि अभ्यास करने वाले लड़ाकू विमानों में 21-22 फाइटर जेट शामिल रहे। इस अभ्यास में चीन का जे-17, जो कि Su-27 लड़ाकू विमान का चीनी अवतार है। इसके अलावा अभ्यास में जे-16 विमान भी उड़ान भरते हुए नजर आए। सूत्रों ने कहा कि चीन के इस अभ्यास पर भारतीय पक्ष भी करीब से नजर रख रहा है।

सूत्रों के मुताबिक, जिन हवाई अड्डों से चीनी लड़ाकू विमानों ने अभ्यास किए उसमें होटन, गार गुंसा और काशनगर समेत कई हवाई ठिकाने शामिल रहे। इनमें से कुछ को चीन ने हाल ही में अपडेट किया है ताकि सभी प्रकार के लड़ाकू विमान यहां से उड़ान भर सके। इसके साथ-साथ हवाई अड्डे के संरचनाओं में भी बदलाव किया है ताकि लड़ाकू विमानों को छिपाया जा सके।

अपने क्षेत्र में ही रहे चीनी विमान
सूत्रों ने बताया कि अभ्यास के दौरान चीनी के लड़ाकू विमान अपने क्षेत्र में ही रहे। लद्दाख क्षेत्र में पिछले साल से भारतीय लड़ाकू विमानों की ग

टक्कर देने को तैयार हैं राफेल
भारतीय वायु सेना नियमित रूप से अपने सबसे सक्षम राफेल लड़ाकू विमानों को लद्दाख के आसमान पर उड़ाती है। राफेल की तैनाती के बाद वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत और मजबूत हुआ है। सूत्रों ने बताया कि भले ही चीन ने पैंगोंग झील क्षेत्र से सैनिकों को हटा लिया है, लेकिन उन्होंने एचक्यू-9 और एचक्यू-16 समेत अपनी वायु रक्षा प्रणालियों को स्थानांतरित नहीं किया है, जो लंबी दूरी के विमानों को निशाना बना सकते हैं।

Check Also

शिखर सम्मेलन संपन्न:जी-7 से बौखलाया चीन बोला- अब ‘छोटे देश’ दुनिया पर राज नहीं करते, लंदन स्थित चीनी दूतावास ने बयान जारी कर दी धमकी

  हम साथ-साथ हैं- ब्रिटेन में रॉयल एयरफोर्स की एक्रोबैटिक टीम की कलाबाजी देखते जी-7 …